Fucked my teacher malini sex story

Hai, I am Rohan from Mumbai. I am 22 years of age. The title it self will give some idea about the story. I would not like to call this as Story. Because this is a real one. This was happened on my 17th years of age. On that time I am in 12th Standard. This is my first affair, that too with my Teacher. About Teacher: Her name is Malini.

She is married. On that time she is 26 years of age. White in color with good shaped Boobs. But she doesn’t have the children even after 4 years of married life. But they are not worried about the same.

The cause for not delivering the child is only her husband. That’s only knows to her not to her husband. Even while discussing with her she told me once “let the god decide the time to give me a child”. That world becomes true through me.

I am studying the tuition from my8th standard. I don’t have any intention to have her on the bed. Honestly speaking Even I doesn’t have the intention to see her boobs or curves. This is happened just 4 or 5 months before that the climax. That happened on one evening. I am very poor in Maths. Even I would say I would be the first mark on all other subjects.

But still she compelled me to take the Maths group on my 12th standard. When even I am doing Maths she will call me just near to her. Normally she will were the Saree on the time of taking tuition. Very rarely she will be on Nighty.

On that day she received the tuition fees from other student, and she searched the place to keep the money. Because of she is wearing the Nighty, she opened the upper zip and try to keep it on her Bra. But on that day she doesn’t find the Bra on that day. Then she kept on other note is available nearby to her. But she forgets to close the zip, which she opened before.

On that time I have shown my note her for correction. Because of I have done the maths problem very badly. She bends towards me to teach the problem. She is just watching mynotebook. But I am very keen on watching the boob, which is very clearly visible to me, up to the portion of nipple.

Almost all the time I spent only to watch the same. That was made me in compulsion to see her boob and curves in all the days. From that day I started watching her structure, how that was made. Even I will think in night, whether God has done some homework before he invented her. She has such a beautiful figure.

Because of some illness to me I was not attended the tuition for 4 days before the Onam Festival. Normally we will celebrate the Onam in our native place of one village. Because of that is my last year of School and the exam, which going to come is very important for my life and I am not attended the tuition for 4 days, my fatherand mother decided to leave me at my aunt’s place for attending the tuition.

I went the day before Onam to Tuition after my family members were started from my house to my native. When I am reaching I am not knows that the tuition was leave for all the 4 days for Onam holiday. When I am entered to Tuition my teacher came out and told me all those things. But I said all the things up to my family went to native.

Then she said me that you just sit at my house and study for your exams. And asked me where you will take lunch. I told I am staying with my Aunty. Then I studying for 1 hour and watching how she is cleaning her house. And I asked her that any help from my side. At last she admitted me to help her.

During such time I got several chances to touch her and get the vibration from her body. One of such job we both wants to change the place of one table from one place to other. We both tried from one end and her husband from other side.

On that process she slipped and fell down with me. On that time I just fell down with her, my face exactly on her boob. I could not recover my self from that, reason is very simple, she lying on my hand. Then her husband helped me to recover. Then our tuition got over.

And she told me to come on evening around 4.30 and said me that she will take the class to me, which I have not attended on my leave. I came there around 4.40. But I was bit confused, because she is packing the luggage.

Then she clarified me that her husband is going for out of station to see her mother-in-law. She asked me to wait 1 hour. After that she is free around 6.00. Then she called me and said I am bit tired and I will take classes on my bedroom. I said no problem.

On that time she is wearing Rose color Saree with same color Blouse. It is transparent to show the Black Bra. Normally she will tie hersaree below Naval. She called me. I am just following her by seeing her back, which is very good to see. Then she asked me to take the Zoology Book. The Chapter she is going to teach is “Human Reproductive Organs”.

She told me “If you are strong in this chapter you not only securing 22 marks from this chapter but also you able to be good husband to your wife”. You can ask me any question without any hesitation. Because this is very important chapter from study part and your life part. I kept silent and watching her lip movements.

Then she asked me that “Do you have any relation ship with any of girls or ladies before”. Suddenly I said No. Then she asked whether you are having any experience of seeing XXX Movies. I said cleverly “I don’t know what is XXX”.

Then she laughed and said, “Have you seen anysex movies”. I said yes. She asked what kind of Movie that is. I said some bond movie. It is a BF category movie. No madam it is ordinary movie.

Then she laughed and said you have seen onlyXX movie not XXX movie. Then she asked me what are all the reproductive organs. I said cock of gents and pussy of ladies. Then she asked me how the reproductive process is organized.

I said by inserting Lund into pussy and by delivering the juice form cock inside the pussy will be the reproductive process. Then she asked me how the juice would come out from cock. I said I don’t know. Then she asked me what are all the sexual organs. I asked is there is any differences in reproductive organs and sexual organs.

She said yes. I said I don’t know. Then she explained, all the parts of human which is attracted by others are sexual organs. For example ladies is concerned Eyes, Lips, Boobs, ash, buttock, lap, etc. for gents Lips, Arms, Chest Hairs, Lap, etc. These are all come in the range of sexual organs.

She asked “you are not answered me that how the juice will come from Lund”. I said, “It won’t come automatically”. Then she said the juice would come for both. That will come because of over excitement. I asked how the gents would get excitement. She said by kissing, by seeing the boobs& curves, etc. I said I don’t understand. She explained when the person is kissing other person who is lady, and then automatically the both get excited.

I kept my face little confused manner. Then she said would you like trying that with me. I laughed and kept quite. The she said no problem try once. And she reached me how to kiss a lady. First, have an Eye contact and they try to bring her face into your palm and slowly kiss her. I just done the same. I first touched her face and brought her face very near to me and slowly I brought my lip towards her lip and placed my lip on her lip very slowly.

And after some minutes I pressed her lip though my lip. Only after few minutes I opened my lip and try to open her lip. First she doesn’t co-operate then she very slowly opened her lip and allowed my tongue to go inside her mouth and try to get her saliva. After some time she done the same with her tongue. I have done the same process at least of 15 minutes and she disabled her self from me. And asked me how you are feeling now.

I said with shy I was excited like anything. Then I asked her you madam. She said very casually little bit excited. Then I asked her “What I have to do to make the lady full excitement”. She said the lip kissing is only the starting.

After that you have do some other things like squeezing the boobs, sucking the boobs, sucking the pussy& ash hole. Then I kept quite. She asked would you like to do it with me. I am slowly said Yes madam. She shown the green signal for me to do whatever she wanted.

Then once again I brought her face towards me and started her lips. But this time some vigorously. And I gone back to her and still I am kissing her cheeks and tried to place my hands on her boobs. Exactly the same I have done.

Then I squeezed her boobs very well and stripped herbaria down. And just opened her blouse by one by one. And I have come to the front side and kept my lips on her boo with bra and sucked.

But that is not enough for me and I have opened her bra by taking the same in upward side. Now my loving boob is in front of me to such. I just forced her towards bed and started sucking her boob directly and my one hand is squeezing the other boob. I have become mad of sucking theboobs. And I have come to the bottom. Her red panty is already made wet. I am smelled the panty and sucked the same from outside.

Then I tried to open her panty. But she pulled me from bottom and she started removing my shirt and pant and my panty in no time. She was wondered by seeing my 7″ lund in front of her. She just shown some hesitation to touch the same. I am signaled her that do what ever you wanted. She kept that on her mouth directly. And try to take the prejuice. At the same time I am bit hurry to see her Pussy.

Then I kept my Lund on her mount and I have turned to down suck her pussy. Then I have opened her panty and I was very excited that her pussy was very clearly shaven. She is made it ready for me to suck. I sucked the outside juice.

For the first time I am going the open the lips of pussy. I opened the lips and seen the rose color. I kept my lip inside her pussy. Due to over excitement the juice is coming-out very frequently. I don’t want to waste any of those. I have taken all the juice to my mouth.

And she asked to me to give the milk juice on her mouth.Then I started playing in out play with her mouth and downloaded all the milk with her mouth. Then she called me to come up. Then we shared the milk, which is available on her mouth by kissing each other. Then she asked me to continue the sucking job, which is stopped.

I started sucking her very vigorously. She started shouting fuck me hardRohan. Then I came to know that this is right time for go for climax. Then Iam gone upward and started kissing her lips and squeezing her boobs. I asked her to keep her legs broder in V shaped.

She just shown the way in which I have to proceed with my Lund. She kept her twofingures and gateway person for sending my Lund inside. I am just placed my Lund on front of perpussy lips and just pushed inside. Because of over juice my Lund doesn’t find very great problem in going inside.

But still her pussy showing the stiff in having my Lund. Then I started jerking my penny in out. She shouted fast. I made it fast. Then she shouted for pain. But I don’t bothered and made the fast available for my strength.

The show was beautiful to see the dancing of her boobs. Then I decided to cum the juice inside per pussy and the same was done. Then I have taken my breath back but she is breathing very hardly. And I am making myself disabled from her body and laid next to her. After some time back she started kissing me. Now the time is 8.30 pm. She asked me that can you stay with me. I said I have only one problem to stay with you.

The problems I have inform to my Aunty. Then she took the phone the dialed my aunt’s phone number and told her. For some reasons I will keep Rohan with me. My aunty also accepted. Then she asked me what would you like to take for dinner. I said I already finished my dinner and you are served me very well. She kept quite.

And we had the dinner as nude. And after dinner we had the combined bath and the full night we were very busy in exchanging the sex each other. We had the full sex on all the 4 days. And even after I started having with her after my school hours and before my tuition hours. At last I have become a father through my Teacher.

Desi sex story : Bhabhi Fucked Hard

Desi sex story : Bhabhi Fucked Hard

 

I am Zaks from Pune. Yeh baat un dino ki hai jab mai just job pe laga tha aur ek software firm me kaam karta tha. Hamara ek flat hai jahan mei rahta tha woh company place se kaafi dur tha. Is liye mei apne bade bhaiya ke waha shift ho gaya jinka 3BHK flat company ke kaafi kareeb tha. Bhaiya ki shaadi huye abhi 5-6 saal hi hue the. Unke ek beta hai sonu jo 4 saal ka hai aur Kindergarten school mein jaata hai. Bhabhi ki umar kareeb 27-28 saal hai. She is the most beautiful lady god had made. Puri ki puri milky skin, tall, slim, aur kya figure hai. Usko dekh ke kisi ka bhi man bhatak jaaye. Uske boobs thode bade hai aur yeh uski body pe char chand lagate hai.

Meri job timing flexible hai kyon ki software company main project milte hai jinko ghar se bhi kiya jaa sakta hai. Hamari project incharge Nisha ne hamee kaafi freedom de hui thi. Is liye me aksar dophair ke baad hi office jaata tha. Sonu bhi jr. school me hone ki wajah se 11 baje school jaata tha. Jis complex main me rahta tha waha ek kaafi bada swimming pool tha. Kyon ki sabhi log subah-subah kaam pe chale jaate the aur isliye poore din swimming pool area khali hi rahta tha. Swimming pool ka area uupar se covered tha taki flats me se koi taak jhaak na kare. Mujhe subah late uthane ki aadat hai kareeb 9 baje. Tab tak bhaiya office chale jaate the. Sonu aur bhabhi hi mujhe utate the. Mujhe yeh kaafi acha lagta tha kyon ki uthte hi bhabhi ka chera mere saamne hota tha. Who aksar raat ke night gaun me hi hoti thi kyon ki bhaiya ke khane ki tayari karte karte kaafi der ho jaati thi. Kabhi kabhi to wo bina bra ke hi rehti thi aur uske nipples nighty mein se uth kar dikte the. Bhaiya ke jaate hi bhabhi muje utha ke ghar ke baaki kaam mein lag jaati thi.

Mujhe swimming ka kaafi shauk hai is liye main subah hi swimming karne chala jaata hu. Main ek acha swimmer hu aur is liye bhabhi ne mujhe apne bête sonu ko bhi mere saath bhej deti aur school ke liye tayaar karne ke liye swimming pool area me lene aati thi. Swimming costume pehne main Sonu ko pool se baahar lekar aata aur paani mere badan se tapakta rehta. Swimming ke kapde bhi ajeeb hote hai. Mera lund bhabhi ko dekhte hi tan jaata tha aur swimming costume me se bilkul saaf nazar aata tha. Magar main aise pretend karta ki mujhe is bare main kuch bhi nahi pata. Bhabhi bhi shaayad maza leekar dekhti thi par chehere par dekhati nahi thi.

Main jaan bujh kar aisa karta tha taaki bhabhi ko mere lund ki ek jhalak dikha saku. Sonu 11 baje school chala jaata aur bhabhi usko chodne ke baad pool ke paas aati aur mujhe khaane ke liye bulaati aur phir pool se nikal kar towel lappet kar main aur bhabhi lift me apne flat jo ki 12th floor par hai chale jaate. Mera badan ek athlete jaisa hai aur main dikne me bi acha hun. Bhabhi mujhse mazaak mazaak me mere badan ki taarif karti aur lage haath main bhi bhabhi ki khoobsurti ki taarif kar deta aur jaan bujh kar kehta ki mujhe bhi aap jaise hi biwi chaihiye. Who hans deti aur mere shirtless badan per pyar se ek haath maar deti.

Is tarah samay jaa raha tha aur mere lund ki pyaas bujh hi nahi rahi thi. Maine ek din tay kiya ki bhabhi ke saath jyaada waqt rahoonga aur unhe apne kareeb lekar hi aaunga. Ek din mujhe ek idea sujha. Pool mein jab bhabhi sonu ko lene aayi to maine bhabhi ko pool ke andar se hi sonu ko pakdaane ki koshish ki. Main sonu ko side mein lekar aaya aur use thoda uthaya. Bhabhi ne jaise hi sonu ko bahar nikaalne ke liye haath badhaye maine dheere se sonu ko andar le liya. Issse bhabhi ka control bigad gaya aur woh paani mein jaa giri aur mujhe bachane ke liye bulaane lagi. Maine Jaldi se Sonu ko bahar bithaya aur bhabhi ki taraf swim karne laga. Tab tak bhabhi paani me dubne lagi thi. Maine bhabhi ko apni bahoon me uthaya aur paani ke oopar layker aaya. Jahan par bhabhi giri thi waha paani ka level kum tha magar maine aise pretend kiya ki paani gahara hai aur bhabhi ko aise pakda ki bhabhi ka muh niche ki taraf tha aur gaand oopar.

Maine apna left hand ko uske bbobs ke neeche rakha aur unhe jor se pakad liya. Right hand uski jangho pe rakha aur uski chut par meri unglian pherne laga. Bhabhi us waqt sirf bachne ke liye tadap rahi thi is liye use yeh dikhaayi nahi diya. Maine thodi der jaan bujh kar paani me hi gujaara aur bhabhi ko paani se oopar laakar shaant hone ko keh raha tha. Bhabhi bhi apne aapko safe paakar thodi relax ho rahi thi. Mujhe is beech thoda aur mauka mil gaya bhabhi ke boobs pe haat pherne ka. Main to man hi man pagal hue jaa raha tha. Bhabhi ka badan itna soft tha jaise maine kisi rabbit ko utha rakha ho. Bhabhi ne us waqt night gown pehan rakha tha jo unki knee length tak hi tha. Paani me girne ki majah se unka gown oopar ho gaya tha aur maine mahsoos kiya ki mere haath unki panty par hai aur mere haath uski jaangho ko mehsoos kar rahe hai. Panty par haath hone ki wajah se mere fingers unki pussy lips par jaakar tik gaye the.

Yeh feeling hi mujhe paagal kar rahi thi. Bhabhi ne mujhe thanks kiya aur kaha ki main ek acha swimmer hun. Mera lund pura tan gaya tha aur apne ghar me se nikalne ko taras raha tha. Maine Bhabhi ko bahar nikala aur bhabhi ko khada kiya. Paani mein girne ki wajah se bhabhi kuch der ke liye thik se khadi nahi ho paa rahi thi. Yeh baat mujhe maalum thi ki bhabhi ko sidhe khade hone mein thodi der ke liye paresaani hogi. Maine waqt ka faayda liya aur bhabhi ko apni baahon mein utha liya aur sonu ko saath liya aur lift ki aur chal diya. Lift aate hi hum andar chale gaye aur mene 12 press kiya. Lift oopar ki taraf chal di.

Main bhabhi ko aise uthaye hue tha ke unka ek boob mere ek haath se thoda dab raha tha aur doosra haath maine jaan bujh kar uso uthaate hue uska gown ke andar se haath daala aur ushke pairon ko uthaya taaki who meri baaho me aa jaye. Iski wajah se bhabhi ki gaand par mera right hand tha. Lift me main use baar baar oopar ki taraf karta tha taki mere haath uske boobs or gaand ko aur dab sake. Ab bhabhi normal ho chuki thi aur use bahut sharam aa rahi thi meri baahoon me.

Usne meri baahon se apne ko chudane ki kosish ki par maine toh tay kar liya tha ki is mauke ko kaise faayde mein badla jaaye. Maine aur kas kar bhabhi ko pakad liya aur unhe relax hone ko kaha or kaha ki yeh dewar kis din kaam aayega. Bhabhi ne kaha ki unke wajan se main thak jaaunga. Maine kaha bhabhi tum ko uthana aur kisi phool ko uthan dono same hai to who muskurane lagi. Uske haath mere nange badan par the aur usne mujhe aise pakad rakha tha ki wo dar rahi ho ki kahi main use gira na du.

Main Sonu aur bhabhi flat main aaye aur maine bedroom me aakar bhabhi ko pyaar se lita diya. Bhabhi puri gili thi aur bed par litane ke baad mera dhyaan uske badan par gaya. Usne light colour ki gown pahne thi jis se uska pura badan dikh raha tha. Panty bhi white transparent thi jis se andar ke badan ki jhalak dikh rahi thi. Shaayad uski pussy puri tarah se shaved thi aur uske pussy lips ki outline nazar aa rahi thi. Usko yeh ehsas nahi tha ki uska badan itna dikh raha hai. Mera bhi bura haal tha. Lund tan kar hiloore le raha tha. Bhabhi ko litane ke baad jab me khada tha tab lund seeda tan kar dikh raha tha aur thik bhabhi ke muh ke saamne tha.

Maine realize kiya ki bhabhi ki nazar us par pad chuki hai aur woh Sharma rahi hai mujhse baat karne mein. Maine use kaha ke aap aaram kare aur main sonu ko school ke liye taayar kar deta hu. Bhabhi uth kar washroom chali gayi aur maine sonu ko tayaar kiya aur bus main chod aaya. Is beech bhabhi bhi nahane chali gayi thi. Wapas aakar main bhabhi ke room main chala gaya aur wahi bed par beth kar uska intazaar karne laga. Thodi der main bhabhi bathroom se bahaar aayi sirf ek towel me. Use laga mujhe sonu ko chod kar aane me time lagega. Mujhe dekh ke who wapas bathroom main jaane lagi.

Maine uth kar bhabhi ko roka aur ek haath uske kandhe par rakh kar kaha ki its alright, tum comfortable feel karo mere saamne, par who thoda reserved thi. Jab maine mauka jaate dekha toh usko pakadkar mere najdik khica aur uski aankhon mein dekhne laaga. Bhabhi ko samajh nahi aa raha tha ki kaise react kare aur who thodi der ke liye aise hi mujh se chipatkar meri baahoon mein khadi rahi. Maine mauka dekha aur uska towel khol diya aura who sirf bra aur panty main thi. Maine uske gale par kiss karne laga. Usne mujh se aise na karne ko kaha aur woh door hone ki koshish karne lagi. Maine usse sirf ek kiss maanga aur chod dena ka waada kiya. Usne thoda mana karne ke baad maan liya aur ek kiss mere gaalon par tek diya. Mene mana kiya aur phir se kiss maanga sahi jagah par.

Usne ab doosare gaal par kiss diya. Maine use bhi nakaar diya aur sahi jagah par dene ko kaha. Is beech wo meri bahoon me kaid thi sirf bra aur panty main aur mera ek haath uski gaand sahla raha tha aur doosra haath uski peeth par pher raha tha. Gaand wala haath thodi jyaada harkat kar raha tha. Usko baton mein ulzha kar main waqt badha raha tha. Main bhabhi ko sahi jagah par kiss karne ko kah rah tha aur wo baar baar mere cheeks par kiss de deti aur chutne ki koshish karti aur main naa keh kar use aur jor se jakad leta aur mera right hand uski jaangho se panty ke neeche se gaand ko daba raha tha aur ab meri ungli uske gaand ke hole par aaa chuki thi aur dhire dhire hole main ghusane ka prayaas kar rahi thi aur doosara haath use tight pakde hue tha.

Shaayad ab use bhi maza aaa raha tha par itni aasani se woh apne ko saupane ko taayar nahi thi. Usne kaha ki mere bhaiya ko pata chal gaya to bahut bura hoga. Mene kaha hum dono ke alaawa kisi ko pata nahi chalega par woh nahi maani. Lekin ek baat maine sahi ki ki usko baahon me jakde hue usko baton main ulzhaaye rakha jis se main use seduce kar saku. Mene apne haath ab uski gaand se hote hue uski pussy tak pahucha diye aur pussy ko sahlaane laga. Who madhosh ho rahi thi aur uski chutne ki koshish dhili ho rahi thi. Maine mauka dekha aur doosre haath se uska bra ka hook khol diya. Ab uska back pura nanga tha.

Maine apna doosra haath dheere se sehlaate hue uske boobs par laaya aur side se uske boobs pakad liye aur unhe dabaane laga. Neeche pussy aur oopar boobs dono jagah mera kabzaa ho chukka tha. Usne bhi ab haar maan li thi aur madhosh hokar mujhe ek chota sa French kiss diya. Ab hum relax ho rahe the hamari pakad dhili ho rahi thi. Pakad dhili hote hi uski bra uske badan se alag ho gayi. Mene bina motion tode uski bra se use aazad kiya aur use deewar par dhakel kar ek lamba kiss uske hooton par jad diya. Hamare hooth ek doosare ke andar the aur hum pagalon ki tarah unhe choos rahe the. Mere haath uski pussy ko sahla rahe the aur ek ungli uski chut mein use mazaa de rahi thi.

Ab hum dono garam ho chuke the. Usne mere kapde jor se kheeche aur T-shirt nikal kar kar door phenk di. Mera shorts bhi neeche kar ke underwear bhi utaar di. Mera lund dekh ke uski aankho mein ek alag si khushi thi. Neeche jukh kar usne jhat se mera lund apne haath mein liya aur phir apne muh me daal liya aur paagalon ki tarah choosane lagi. Mera to bura haal tha. Meri khyobo ki raani ab poori tarah meri ho chuki thi. Main bhi uski boobs ko jor jor se masal raha tha.

Maine use uthaya aur bed par lita diya. Main uske bagal mein apna muh uske legs ki taraf kar ke let gay aur use mere oopar aane ko kaha. Aise 69 ki position ban gayi aur who mera lund apne muh me lekar jor jor se chusane lagi. Uski pink chut ab mere muh par thi. Dosto aisi chut saamne paakar mai dhanya ho gaya tha. Maine dhire dhire chut ke aas paas kiss karne laga aur chut ke lips ko halke halke katne laga. Phir uski pink chut ko chatane laga. Jannat sa mehsoos kar raha tha us samay. Uski chut maano mere hoton me khel rahi ho. Woh ab jhad rahi thi aur uska paani chut mein se nikal raha tha aur main us paani ko apne muh me liye jaa raha tha. Who kaanp rahi thi. Aisa mazaa use shayaad abhi tak nahi mila tha. Who mere oopar thi aur jitni jor se mera lund chus rahi thi uske boobs meri chaati par jor jor se ragad rahe the. Mera to bura haal tha. Kaafi der chusne ke baad hum sidhe hue aur maine uske lips phir se choosne laga.

Mera lund ab uski chut ke oopar tha par maine andar nahi daala sirf baahar se chut pe ragadta raha. Ab usse raha nahi gaya aur woh tadapne lagi.Phir ek jhatke se usne mere lund ko pakda aur mera lund uski chut ke andar ghusa diya. She was really very hot by then.Main Jor Jor se dhake lagane laga aur ab mera lund uski naram si chut mein maano swarg ke maze le raha ho. Kuch der chodne ke baad who thak gayi aur main bhi jhadne wala tha aur maine poora sperms uske oopar uda diya aur usse lipat gaya. Dono Pasine Pasine ho gaye the. Hum aise hi 1 ghante lete rahe ek doosare se chipat kar. Aisa lag raha tha ki koi bhi ek doosre ko chodne ke mood me nahi hai. 1 ghante ke baad phir lund me harkat hone lagi aur maine use phir se kisss karne laga. Phir idhar udhar haath phirane ke baad use doggy style main aane ko kaha. Usne waisa hi kiya. Maine peeche se apna lund uski gaand par masla aur ab lund pahle jaise hi tight ho chukka tha.

Kuch der uski gaand ke hole se khelne ke baad maine peeche se apna lund uski chut me daala aur kutte ki tarah choddne laga. Bhabhi pure maze lekar chud rahi thi. Is baar lund ki pichkaari itni jaldi nikalne wali nahi thi yeh mujhe pata tha. Maine jor jor se dhake maarne suru kiye. Bhabhi ki aankhon mein se aansoo nilane lage aur who aur jor se mujhe support karne lagi. Phir use sidha litaya aur uski chut chaatne laga. Aise karne se who pagalo ki tarah tilmila uthi. Uska sharer kaanp utha. Maine phir apna lund uske muh me dala aur muh ko fuck karne laga. Usne hi mera lund jitna ho sake nigal liya tha aur use ab who daton se kaat rahi thi. Aise karne se mera lund aur tight ho gaya aur usne use khoob choosa.

Ab maine apna lund uske muh se nikala aur uski chut me daal kar jor jor se thok raha tha. Dono pasine pasine hue jaa rahe the. Ab dono ki halat kharab thi aur dono ki halat aise thi maano dono ek doosre ke andar ghus jaana chahte ho. Khub chodne ke baad me jhadne wala tha aur ek baar phir maine uske oopar apna poora sperms daal diya aur use chipatkar shant let gaya.10-15 minute baad dono ko hos aaya aur maine use utha kar bathroom mein le gaya aur bathtub ka tap chalu kar diya aur dono bathtub mein let gaye. Kareeb 1 ghante tak bath tub me ek dusre ko saaf karte rahe aur hoton ko chooste rahe .Main uske boobs ko beech beech mein chusane lagata. Who bhi mere lund se khelti.

Is ke baad to maano hamare pankh lag gaye ho. Flat me shaayad hi koi kona bacha hoga jo humari chudai se bacha ho. Ek baar jab hum bathtub me lete the to woh mere oopar thi aur main uske boobs daba raha tha. Uski gaand mere lund par thi. Uski hal chal se mera lund uski gaand ki hole ke ekdum oopar aa gaya aur lund thoda sa uski gaand mein ghus gaya. Use dard hua aur usne nikalne ki koshish hi.

Maine mana kar diya aur thoda sa lund bahar nikal kar use thodi relief di. Magar lund ka tip ab bhi gaand ke hole andar tha. Mene Saabun liya aur gaand ke hole pe ragada aur dheere dhire lund gaand mein slip hota gaya. Use dard bhi hua par saabun ki wajah se uski gaand ki skin lubricate ho gayi thi aur mera lund uski skin ko nahi kheech raha tha balki sabun ki wazah se dhire dhire kab andar gaya pata hi nahi chal aur usi position mein mene uski gaand ke maze liye.

Usne bhi shaayad yeh maza pasand kiya aur cooperate karne lagi. Doston sach mano Gaand maarne me jitna maza aata hai uska ehsas mujhe us waqt hua. Aisa hi haal bhabhi ka bhi tha. Usne mujhe bataya ki gaand marwane mein use bhi jyaada maza aaya. Doston dhyan rahe ki gaand maarne se pehle gaand ki skin ko lubricate kar le. Aisa karne se aurat ko jyada dard nahi hota aur thodi kosish karne ke baad aapko kaamyaabi zaroor milegi. We had Lots of anal sex after that.

Ab mujhe doosri company mein aur acha job mil gaya hai aur mujhe waha se shift hona pada par ab bhi humein jab bhi waqt milta hai hum zaroor pehle jaise hi sex karte hai.

Indian sex story : Sexy Summer With My Sister

Indian sex story : Sexy Summer With My Sister

I am basically am a hyderabadi guy, age 20, 5’5″ height, fair complexion, charismatic character and a terrific 7″ dick to die for…. The story am going to narrate, happened few months ago.. The actor of the story is obviously me and ma heroine’s ma sis varsha… About ma sis, she’s 18, 5’3″, fair like me, dont know about her vital stats (figure) but i can say that she got a fabulous pair of boobs and a dick threatening ass to die for whenever she moved across the streets, it was sure for guys to turn their heads towards ma sissy’s bouncing ass..

I and varsha r damn close to each other and share almost everything with us.. She knows about ma chicks and ma past, i too very well know about ma sissy’s partner’s… Coming to the story, it happened during the summer holidays, when i went to spend a week at ma aunt’s house.. I was very happy to meet their family specially ma sis, when i saw her in a pair of maroon sleeveless top and a skin fit 3/4th denim.. My gosh, she’s just damn gorgeous in that outfit.. Whenever i used to meet her, we use to hug and i use to plant a kiss on her cheeks.. This time, i crushed her in my arms and gave a peck on her neck and ears lobes.. It just raid my dick to its full size and she must have observed that! We departed and i started asking about her whereabouts, college life, her bf etc etc she too responded very well to my questions and asked about me n ma chicks.. I said the days r just boring and nights turn out to be fun ;d she gave a naughty smile to my answer and i winked at her..

I forgot to mention u 1 thing, ma sis is fond of porn and whenever i meet her, i bring a very good collection of porn with me for us.. We watch it together.. That day, i had around 15-20 porn films in ma cell.. I was becoming restless coz i dint hav much to do there.. So, i called up my friends and went with them, leaving her with her mom to do household chores.. It was 8 in the evening, i returned very tired coz i had a ample fun time with my friends.. I went and sat in her room and asked for a glass of water, she came and brought the glass and handed over to me.. While drinking, i just glanced her pouty lips and her bulgy boobs wihch gave me an erection.. While handing over the glass, i slipped the glass and the water fell over her boobs… She was wearing a green transparent salwar and the water made the scene much more clear and erotic.. She wore a black satin bra.. The boobs were just too delicious for my eye sight…

I came back to my sense and apologized for the act innocently.. We were having dinner and her dad arrived.. I wished uncle and he too joined us for dinner.. We completed having dinner around 10 and were preparing to sleep.. I and my bro use to sleep in our room, sis use to sleep in the hall and uncle-aunt in their room.. That night, i wasn’t able to sleep coz i was having the scene of those marvellous water drenched boobs in my mind constantly running.. I took out my phone, and started watching porn.. I was getting hyped with the erotic kissing scene between the teacher and her student and my hand started working over my dick… While watching the porn, an idea struck to ma mind.. I thought of seducing my sister tonight because it was my eternal wish to fuck her desperately..

It was 11 in the night, i opened the door and went to the hall and found her watchn tv.. I too joined her and switched on hbo.. To my luck, the film wild things was running.. There came a intimate scene of girl in blue bikini and guy in just shorts, kissing each other desperately.. I was just enjoying the scene and was watching my sister.. She was deeply mesmerized with that scene and suddenly i switched off the tv she was confused as so y did i switched off the tv… I winked at her and gave my cell to ma sis..As usual, she knew i’ve brought something for her and she found porn and played it.. In this porn, a plumber was sucking the pussy of a white chick and slapping hard on her ass… While watching this, i gently moved my left arm to the shoulder of ma sis to and gradually started pressing boobs over her top.. She was taken aback and got angry asking me what am i doing and threw my arm away.. I apologized my sis and made her calm down..

Sis- bhaiya ye aap galat kar rahe ho, aapne isse pehle to aisa kabhi nahi kiya..

Me- sis, mai tujhe bahot pyaar karta hoon aur hamesha se teri khoobsurti ko dekhta aaya hu… Pls mana mat kar

Sis-bhaiya aap mere bhai ho.. Aapki to gf bhi hia, fir mai q??

Me- tujhme jo baat hai wo unme nahi hai sweety.. (i knew she too wanted this and was being dramatic)

Sis- bhaiya koi dekh lega, raat bhi bahot ho chuki hai

Me- tu darr mat yaar, kuch nahi hoga.. Mai tuhse bahot pyaar karta hun, bas aur na tadpa mujhe

I grabbed her waist and brought her close to me and engaged in a most erotic liplock of my life… She was struggling hard to get free bt wid one hand i held her waist, with another i grabbed her hairs, and put my weight thru my legs on her completely… She cant even raise her voice otherwise some1 could wake up and we are screwed.. She was struggling too hard bt in vain.. I was just too strong fr her.. The lips were jst too luscious and after about 5 minutes i released her..

She was just too angry for my act and just slap me on ma chest.. Tears rolled down her eyes.. I calmed her saying- mai tujhse pyaar karta hoon pagli, tujhe taqleef dena nahi chahta, tu ro mat.. Itne saalon se mai tere saath hun, har baat share ki tujhse, apni personal life k baare mey bataya, teri har baat maani, tujhe hamesha khush rakha, aur kya tu apne bhaiya k liye sirf itna nahi kar sakti??? Saying this, i licked the tear form her cheeks and again gave a peck on her cheeks..

Varsha- bhaiya maine apne bf se bhi hamesha doori banai hai, kabhi aisa nahi kiya, aap to mere bhai ho.. Aur agar kisi ko hamare baare mey pata chal gaya to mera kya hoga????

Me- bhai hun isliye to tere ache bhale ki khabar rakhta hoon, agar tere bf ne tujhe pregnant kar diya to?? Kya tera bf bhi tujhe mujh jaise hi pyaar karta hai?? She became silent.. I raised her head and looked in her eyes, they were just too wonderful and her eyes said million things.. I just slowly came towards her face, put ma hand towards the back of her neck came closer and again gave a smooch to her.. This time there wasn’t any resistance.. But she wasn’t active in the kiss.. Slowly i made my move towards her cheek and licked them, then her ear lobes and bit on them.. She slightly let out a moan.. I knew she started enjoying.. So, i took her in my arms and brought her to the terrace.. All the while i was in a french kiss with her.. Our saliva met and it was a ticklish feeling with her tongue.. I sucked her tongue, chewed her rosy lips and brought her in the store room on terrace.. I lay her down on the bed and locked the door!

Her face seemed too innocent to me.. I came towards her, she was breathing heavily.. There was sweat all over my body. I removed my shirt and threw it on the floor, looked in her eyes- i love you varsha, tu mera pehla pyaar hai aur mai aaj sirf tera hoon, mujhpe bharosa kar, tujhe kuch taqleef hone nahi doonga.. Varsha- i love you too bhaiya.. Mai bhi tumse babot pyaar karti hoon.. Bas darti thi ki kisi ko pata chal gay to kya hoga, aap kya sochenge.. Mujhe apna bana lo bhaiya.. With those words, i just lay on the bed with my arms across her waist and was locked in a french kiss.. Her lips were just too luscious and sweet to be left. I chewed on them like anything and she started responding positively ummmm……..Aahh ahh.. I took her arm and kept it on my dick over the jeans.. It was dying to come out and was waiting to be set free.. She started massaging ma bulge over the jeans..

I moved towards her neck and was licking her everywhere.. Then i came to her boobs, i just removed her top and was awestruck, she wasn’t wearing a bra inside.. Wen asked, she said its because it was too hot today and she use to remove her bra when she goes to sleep… Her boobs were milky white just like 2 ripe oranges with a cherry like nipple.. I started licking her left boob and was massaging the right one.. Occasionally, i slapped hard on the boobs and she was moaning hardly aaahhhh….. Bhaiyyaaaaaa…… Aaahh oouuchh dheere se bhhaiyaaaaa.. Aaahhh aahh lick my nipples bhaiyaa…. Its jst ttttooooo ffuunnn….. I switched it over to the right breast and bit on her nipple.. Ahhhhh bhiaya dheere seeee dard ho raha hai.. I looked in her eyes while sucking her boobs… Her eyes were just too amalgamating and again i kissed her very hard ..

Simultaneously, i was massaging her tits and came down towards her belly.. I licked her belly button and was licking around the fleshy parts… I went to her collar bone and started licking there… She was like in a dreamy world moving her head here and there.. I slowly removed her skirt and was licking out her fleshy white thighs… They were jst too white and i was’nt able to resist them. I came down towards her ankle and licked her toes.. I raised her legs up and supported them on my shoulders and licked her toes rigidly.. She was moaning all around ummmm…. Aaaahh aaahhh uuuhhhhhh!!!!!!!!!!! Tssss aaaahhh bhhhaaaiiyyyyyaaaaaaa .

From bottom, i started moving towards her pussy and all along i was licking the inner parts of her thighs.. My saliva was all around her body.. I started taking out her black cotton panty and smelled them. The smell was just tooooooooo mesmerizing.. I chewed the panty and threw it on the floor and started licking her pussy.. There were tiny hairs on her pussy and i started licking there.. It was too much for her to take and she started moaning loudly aaahhh aaahhhh bhaiyaaa uummmmm aaahhhhh uuh uhhh aaannnnhhhh she grabbed my head and pushed me deep into her pussy with force by her hands… I knew she was liking and loving it.

I parted her pussy lips and pushed my tongue deeper.. With one hand i massaged her left boob and was pinching her cherry.. My god, she was completely lost and was swaying here and there… I got up, moved out of bed, took her in my arms and locked ourselves in a french kiss.. She was just too voluptuous and her figure was a delight to my eyes.. For the first time in my life, i saw her nude and a figure like ma sister’s, could’nt hold me much! We were tightly gripped into each others arms and i pushed her to the wall and came down towards her pussy and started licking it… She was moaning terribly aaannhhh bhaiya bahot acha lag raha hai.. Aahhhh aaaaaaaahhhh.. Lick ma pussy bhaiya.. Harderrrrr haaarrrrdeeeerr ah ah aahhh….. I brought her to the bed and removed my jeans and there my cock stood erect in my jockey.. It was peeping out from the elastic and had precum over the head.. She removed my jockey and there the devil was free.. My sis was astonished to see my cock and its length. I asked her to suck it but she refused..I pleased her and said her when i can lick your pussy, y cant u lick my cock??

She came close and took my rock hard in her mouth and started licking it profusely.. It was first time for her, so she dint knew how to suck it properly.. I grabbed her head and pushed my cock right down her throat.. She was gasping for breath and again i pushed my cock and started fucking her mouth.. With one hand she held my cock and with other she held my balls and started playing with them.. Guys, it was just too heavenly to have my cock in ma sissy’s warm mouth and her saliva made it shine like a mirror..I made her stand and again kissed her while massaging her tits and then lay her on the bed and got into missionary position. As my sis was a virgin, i first licked her pussy so hard that it was just wet and lubricated enough.. All the wetness was also on her pubic hairs making her pussy gross.. I found her clit and started pinching it with my fingers while licking her pussy..

She was pulling my hairs and moaning aaaaaaaaahhhhhhhhhhhhh bbhhhaaaaiiiiii auuurrr zzzzoooorsssseeeee uuummmmmmm aaaannnhhh ooooohhhhh acchhaa lag raha hai bbbhhhaaiiiiii…… Aaaahhhhh her moaning made me go crazy and i started licking vigourously… I felt her cunt muscles relax and there she squirted with a huge orgasm…. It was the first orgasm of her life and i knew she loved it like hell!!! It lasted for about 2-3 minutes.. She was completely drenched in sweat and was motionless, relaxing on the bed.. I licked her cum which tasted salty bt was a nectar for me.. I cleaned her pussy with her hanky and came towards her face and asked her to lick my cock again.. She got up on her knees, held my shaft tightly and started moving her head up an down.. Her hairs were set free and were coming on her face which made the scene more erotic!! With one hand i held her face and pushed my cock down her throat .. With other hand, i was massaging her bounty ass which was swaying here and there.. The feeling was just fantastic guys, to have a fantastic blowjob by ur sis.. 🙂 🙂 i sat on the corner of the bed and made her kneel on the ground and continued with the blowjob.. The room was echoing with the sounds made by her.. Suupppp sluppp thup thup..

She started rolling her tongue on the head of ma dick which made me go crazy and i slapped her in ecstacy… I pinched her nipples.. They were so delight and so sweet…. She increased her speed and pressure started building up in my balls and i made her suck my cock fastly… Aaahh siisss suckkk ittt siss…Aaahhh it feelss tooooo fantastic… Aahh ahhaaaaa am cumming siisss ooohhh ooooohhh am cumming babe and with the last thrust from my sis, i came with a burst of orgasm… I held her and the drops of my cum came all over her face..Her face was shining with the essence of my sperm…… I brought the cum with my fingers and made her lick it..

I cleaned her face by wiping the cum and making her lick every drop of it.. She said it tasted somewhat salty and bitter and she gulped it down her throat!!! With the hanky, i cleaned her face fully, hugged her tightly and kissed her.. We both rest on the bed nude in our arms facing each other.. The night was yet to come to an end and so was i.. I still was starving to fuck my sexy sis’ pussy.. The thought of which gives me an erection! I was happy to take virginity of my sis and was ready for the final act.. The final showdown was yet to come and will post it after receiving your replies… Thanks for reading my story guys.. Mail me your replies.. I hope u enjoyed ma story as much i enjoyed while writing it… Will post the next part as soon as i get replies from you.. Till then any girls/ladies in and around hyderabad, mail me for some fun

Desi sex story : हेतल भाभी की गांड में तेल लगाया

Desi sex story : हेतल भाभी की गांड में तेल लगाया

हैल्लो दोस्तों.. मेरा नाम सचिन है और में मुंबई का रहने वाला हूँ। दोस्तों में आज अपनी एक सच्ची घटना आप सभी को सुनाने जा रहा हूँ.. वैसे यह बात तीन साल पुरानी है.. जब में अपने कॉलेज की पढ़ाई कर रहा था और में दूसरे साल में था। उस समय मेरी उम्र 19 साल थी और मुझे इस App पर सेक्सी हॉट कहानियाँ पढ़ना बहुत अच्छा लगता था और में कभी कभी मुठ भी मारा करता था। फिर धीरे धीरे मेरी नजर मेरी भाभी की तरफ पड़ने लगी.. वैसे वो एक बहुत सेक्सी औरत है और उनके बड़े-बड़े बूब्स हैं.. जिनका साईज़ 38 गांड और कमर 32 है और उनका नाम हेतल है और में हमेशा उन्हे चोदना चाहता था.. क्योंकि वो है ही इतनी सेक्सी कि किसी का भी लंड उनको एक बार देखकर खड़ा हो जाए.. उनके बड़े बड़े बूब्स, मटकती हुई गांड, पतली कमर, गदराया हुआ बदन हर किसी को अपनी और आकर्षित करता था तो जब भी मौका मिलता में बाथरूम में जाकर उनके नाम की मुठ मारा करता था। वो बहुत ही सेक्सी लगती है और मुझे उनके शरीर में सबसे मस्त उनकी गांड लगती है। मेरा तो हमेशा मन करता है कि उनकी गांड में अपना लंड डालकर उनकी गांड फाड़ दूँ। में हर कभी जब भी मुझे कोई अच्छा मौका मिलता.. उनके बूब्स तो कभी उनकी गांड को धीरे से छू लेता लेकिन वो मुझे कुछ नहीं कहती और बस वो अपने घर के कामों में लगी रहती थी और में उनके खूबसूरत जिस्म के दर्शन किया करता।

दोस्तों एक रात को में जल्दी ही भाभी के नाम की मुठ मार कर सो गया.. में अचानक से उठा और बाहर बाथरूम में जाने के लिए अपने कमरे से बाहर निकला.. मैंने बाथरूम के पास जाकर देखा तो वहाँ पर पहले से ही लाईट जल रही थी। फिर मैंने भाभी के कपड़े पहचान लिए और एक क़दम पीछे हट गया और उनका इंतज़ार करने लगा दोस्तों उस समय बहुत गरमी थी तो भाभी रात को नहाकर सोती थी और वो उस रात भी वही कर रही थी। तभी थोड़ी देर के बाद मुझे भाभी की चूड़ियों की आवाजे सुनाई दी और में समझ गया कि वो अब कपड़े पहन रही है और जब उसने कपड़े पहन लिए और बाहर आई तो में उसे देखता ही रह गया.. वो पेटीकोट, ब्लाउज में एकदम सेक्सी लग रही थी और उसके बड़े बड़े बूब्स मुझे छूने को मजबूर कर रहे थे तो में थोड़ा डरते हुए उनके नज़दीक गया और उनसे कहा कि मुझे एक बार अपने बूब्स को हाथ लगाने दो तो उन्होंने कहा कि नहीं.. में तुम्हारी भाभी हूँ और तुम मेरे साथ यह सब नहीं कर सकते हो। फिर मैंने उनसे बहुत ज़िद कि तो भाभी ने कहा कि में शौर मचा दूंगी। में बहुत डर गया और चुपचाप बाथरूम में जाकर फिर से मुठ मारने लगा और कुछ देर बाद में अपने कमरे में पहुंचा और सोने लगा लेकिन अब मुझे नींद कहाँ आने वाली थी और में पूरी रात उनके बारे में ही सोचता रहा और किसी अच्छे मौके की तलाश में था तो एक दिन भाभी मेरे कमरे में आई और मैंने सही मौका समझते हुए उनको 500 रुपये दिए और उन्होंने मुझसे वो पैसे ले लिए और चुपचाप अपने कमरे में चली गयी और फिर उसी दिन में भी थोड़ी हिम्मत करके उनके कमरे में गया और उनकी अलमारी में से उनकी ब्रा निकालकर उनके ही सामने उसे चूमने लगा।

तो भाभी ने मुझसे कहा कि तुम यह क्या कर रहे हो.. कोई देख लेगा तो मैंने कहा कि में मजबूर हूँ और तुम मुझे बहुत अच्छी लगती हो तो भाभी ने कहा कि यह सब अच्छी बात नहीं है। फिर मैंने भाभी को कहा कि दुनिया में हम अकेले नहीं हैं.. सभी लोग यह सब करते है। दोस्तो में भाभी के ऊपर गिर गया.. भाभी ने कहा कि चलो उठो ठीक है लेकिन इस बात का पता किसी को नहीं चलना चाहिए तो मैंने कहा कि में कभी भी किसी को कुछ नहीं बताऊंगा और यह बात तुम्हारे और हमारे बीच में ही रहेगी.. तुम चिंता मत करो और मैंने भाभी के बूब्स को धीरे से हाथ लगाया और दबाने लगा। मेरे ऐसा करने से उनको बहुत अच्छा लग रहा था और वो मुझे बस देखती रही। फिर कुछ देर बाद भाभी ने कहा कि कल 12 बजे में जब बाथरूम में नहाने जाउंगी.. तब तुम टॉयलेट में आ जाना और में तुम्हारे लिए बाथरूम का दरवाज़ा खुला रखूंगी। फिर मैंने कुछ देर और उनके जिस्म के मज़े लिए और उठकर अपने कमरे में आकर उनके नाम की मुठ मारकर सो गया। दोस्तों ये कहानी आप इस App पर पड़ रहे है।

फिर दूसरे दिन ठीक 12 बजे भाभी बाथरूम में घुस गयी और में थोड़ी देर बाद टॉयलेट में चला गया। मेरे दिल की धड़कन तेज़ हो रही थी.. मैंने टॉयलेट का दरवाज़ा बंद किया और बाथरूम में घुस गया। वहाँ पर मेरी भाभी मेरा इंतज़ार कर रही थी.. उसने दरवाज़ा पीछे से बंद कर दिया तो मैंने भाभी को पीछे से पकड़ लिया और अपना आधा लंड उसकी गांड से छू लिया.. भाभी ने एक सिसकी ली और मुझसे कहा कि मेरे बूब्स को चूसो और मैंने भाभी के दोनों बूब्स को पकड़ लिया और थोड़ी देर के बाद भाभी सीधी हो गयी और मुझसे कहा कि अपना लंड तो दिखा तो मैंने अपनी पेंट को उतार दिया और भाभी को अपना मोटा, लम्बा लंड दिखाया और फिर भाभी ने उसको धीरे से चूमा और मुझसे कहा कि क्या में इसको चूस सकती हूँ तो मैंने कहा कि जैसी तुम्हारी मर्ज़ी जानू और भाभी ने मेरे लंड को मुहं में लेकर चूसना शुरू कर दिया और फिर थोड़ी देर के बाद जब मेरा पानी निकलने वाला था तो मैंने भाभी के मुहं में से लंड को बाहर निकालकर उसके बूब्स पर सारा वीर्य गिरा दिया।

फिर भाभी ने सारा वीर्य चाट लिया और उसे पी गई। फिर में नीचे बैठकर भाभी कि चूत को चाटने लगा और में बहुत ज़ोर ज़ोर से उनकी चूत चाट रहा था और वो सिसकियाँ ले रही थी उहह अह्ह्ह। फिर में अपनी जीभ को उनकी चूत में अंदर तक डालकर ज़ोर ज़ोर से हिलाने लगा और वो एकदम मस्त हो गई और कुछ देर के बाद भाभी ने कहा कि मेरा पानी निकलने वाला है तो में और ज़ोर ज़ोर से चूत को चाटने, चूसने लगा और फिर कुछ देर बाद उनका पानी निकल गया और मैने पूरा पानी पी लिया तो भाभी ने कहा कि मुझे ऐसा मज़ा तुम्हारे भैया ने आज तक कभी नहीं दिया है। फिर भाभी मेरा लंड दोबारा चूसने लगी और थोड़ी देर के बाद फिर से मेरा लंड गरम हो गया तो भाभी ने कहा कि इसको जल्दी से मेरी चूत में डाल दो तो मैंने कहा कि नहीं भाभी यह बहुत गलत है.. इस चूत पर मेरे भाई का हक़ है तो भाभी ने कहा कि फिर क्या करोगे।

फिर मैंने कहा कि में तुम्हारी गांड मार सकता हूँ। भाभी ने कहा कि नहीं.. मुझे बहुत दर्द होगा तो मैंने कहा कि नहीं भाभी में पहले उस पर बहुत सारा तेल लगा देता हूँ.. जिससे लंड को अंदर जाने में आसानी होगी और उससे दर्द भी बहुत कम होगा.. लंड फिसलकर एकदम अपनी जगह पर सेट हो जाएगा। फिर भाभी मेरे कहने पर मान गयी और मैंने उसकी गांड पर बहुत सारा तेल लगा दिया और फिर अपने लंड पर भी तेल लगा लिया और भाभी को घोड़ी बनाया और फिर अपने लंड को उसकी गांड के क़रीब ले गया और भाभी ने गांड को अपने दोनों हाथों से पकड़ रखा था तो मैंने अपने लंड को धीरे से भाभी की गांड पर रख दिया और एक जोरदार धक्का देकर लंड को गांड में पूरा का पूरा उतार दिया और उसके बूब्स को पकड़ कर ज़ोर ज़ोर से लंड को उसकी गांड में झटके मारने लगा तो भाभी बहुत ज़ोर से चिल्लाने लगी और बोली कि धीरे धीरे कर मेरी गांड फट जाएगी लेकिन में कहाँ सुनने वाला था.. में और जोश में आकर और ज़ोर ज़ोर से धक्के मारने लगा और वो उह्ह्ह्ह आहाहह उहह माँ ऊऊईमाँ करने लगी और कुछ देर बाद भाभी ने कहा कि हाँ और ज़ोर से फाड़ डाल मेरी गांड को उफफफफफ्फ़.. तूने तो मुझे मार ही डाला और अंदर कर हाँ और बूब्स को दबाओ तो में थोड़ी देर तक भाभी को इसी अंदाज़ में चोदता रहा। फिर में जब झड़ने लगा तो मैंने लंड को उसकी गांड में से बाहर निकालकर उसके मुहं में दे दिया और भाभी ने मेरा सारा वीर्य पी लिया और इसके बाद मैंने उसकी चूत चाटनी शुरू कर दी और उसको भी झड़ने का मौका दिया और उसके बाद मैंने उसको किस किया और दरवाज़ा खोलकर वापस टॉयलेट में चला गया।

दोस्तों इसके बाद तो मेरी क़िस्मत का दरवाज़ा खुल गया और अब में भाभी को जब भी जी करे चोदता हूँ और उनकी चुदाई के मज़े लेता हूँ.. मैंने बहुत बार उनकी चुदाई की और अपना लंड उनके मुहं में डालकर उनके मुहं को भी चोदा ।।

Desi sex story : चाची की सुहागरात का नजारा

Desi sex story : चाची की सुहागरात का नजारा

हैल्लो दोस्तों मेरा नाम विजय है और आज में आप सभी को इस App पर अपनी एक सच्ची कहानी सुनाने जा रहा हूँ.. वैसे मैंने इस App पर सेक्सी कहानियाँ पढ़ी बहुत है.. लेकिन अपनी कहानी भेज पहली बार रहा हूँ मुझसे कोई गलती हो तो प्लीज मुझे माफ़ करे.. वैसे में उम्मीद करता हूँ कि यह आप सभी को बहुत पसंद आएगी। अब में सीधा अपनी कहानी पर आता हूँ। दोस्तों यह बात उस समय की है जब मेरे चाचा की शादी की बात चल रही थी। तो हम लोग रविवार को चाचा के लिए एक लड़की को देखने उनके घर गये हुए थे.. हम सब लोग बैठे थे और लड़की का बड़ी बेसब्री से इंतजार कर रहे थे और फिर लड़की चाय लेकर आई।

मेरे चाचा ने जैसे ही लड़की को देखा तो उनके मुहं से धीरे से निकल गया कि वाह क्या माल है? में उनके पास में बैठा था और मैंने वो सुन लिया.. लेकिन इसमे चाचा की कोई ग़लती नहीं थी क्योंकि वो लड़की वाकई में बहुत सुंदर थी। उसके बड़े बड़े बूब्स, मोटी सी गांड, पतली कमर जो उसे देखे बस यही बात सोचे कि काश यह मुझे एक बार चोदने के लिए मिल जाए। फिर मेरा भी मन किया कि अभी अपनी होने वाली चाची के मुहं में लंड डालकर उसे तब तक चुसाऊँ जब तक में झड़ ना जाऊँ.. मेरा और मेरे चाचा का एक जैसा हाल था। फिर हम सबने शादी के लिया हाँ कर दी और उनकी शादी अगले महीने तय हो गयी। फिर बहुत जल्द वो वक्त भी आ गया और मेरे चाचा, चाची की शादी हो गयी और हम सब लोग चाची के पास बैठे बैठे उनसे हंसी मज़ाक कर रहे थे। में चाची से थोड़ा सटकर बैठा था और मुझे बड़ा मज़ा आ रहा था और उस वक्त चाची बड़ी हॉट, सेक्सी लग रही थी और उस समय रात के 10 बज रहे थे। तभी कुछ लड़कियां हंसती, मुस्कुराती वहाँ पर आई और चाची को हमारे बीच से उठाकर ले गयी.. मुझे पता था कि वो चाची को चाचा के कमरे में ले जा रही थी।

तो में भी अपनी तैयारी में जुट गया और मैंने बहुत पहले से ही चाची की चुदाई देखने का प्रोग्राम बना रखा था क्योंकि मेरा कमरा चाचा के कमरे के बिल्कुल पास में ही था और उसके बीच में एक दरवाजा था.. जिसमे थोड़ी थोड़ी दूरी पर छोटे छोटे छेद थे और मैंने अपना बिस्तर वहीं छेद के पास लगा रखा था क्योंकि मेरा पूरा प्रोग्राम फिक्स था। तभी चाची कमरे आई और बिस्तर पर बैठ गयी और थोड़ी देर बाद चाचा भी वहाँ पर आए और चाची के पास में बैठ गये। तो चाची बोली कि लाईट बुझा क्यों नहीं देते? तभी चाचा ने कहा कि में आज तुम्हारी पूरी सुन्दरता देखना चाहता हूँ.. क्या मुझे आज वो सब देखने दोगी? तो चाची ने थोड़ा शरमा कर कहा कि अब तो यह सब आपका ही है आप जितना चाहो देख लो। फिर चाचा ने चाची को अपनी बाहों में भर लिया और चाची को चूमने लगे और चाची भी धीरे धीरे गरम हो रही थी। तभी चाचा ने धीरे से चाची की साड़ी को उतार दिया और चाची अब सिर्फ़ ब्लाउज और पेटीकोट में थी और एकदम सेक्सी कयामत की तरह सुंदर दिख रही थी। फिर चाचा ने चाची का पेटीकोट भी उतार दिया और अपनी बाहों में भरकर चाची को ज़मीन पर खड़ा करके उन्हे चूमने लगे। फिर काली ब्रा और काली पेंटी में चाची का गोरा गोरा बदन बहुत ही सुंदर लग रहा था और फिर चाची ज़ोर से चिल्लाई क्योंकि चाचा ने चाची के बूब्स को ब्रा के ऊपर से ही ज़ोर से दबाकर उन पर काट लिया था। दोस्तों यह सब देखकर मेरा तो लंड एकदम खड़ा होने लगा था। कभी चाचा, चाची के चूतड़ दबाते तो कभी उनकी पतली कमर तो कभी उनके मुलायम गोरे बड़े बड़े बूब्स और चाचा किसी पागल की तरह उनके बूब्स चूस रहे थे। तभी चाची ने चाचा से कहा कि ब्रा के ऊपर से ही चूसते रहोगे या ब्रा को भी उतारोगे यह अब पूरी गीली हो चुकी है। तो चाचा ने चाची की ब्रा को जैसे ही खोला दोनों बूब्स एकदम ऐसे बाहर आए जैसे ज्वालामुखी फटता है.. गोरे गोरे मोटे बूब्स और उनके ऊपर गुलाबी रंग के निप्पल लगे हुए थे। तो चाचा ने चाची की पेंटी को भी उतार दिया और अब में चाची के बड़े और गोरे चूतड़ देख रहा था और मेरा हाथ अपने आप मेरे लंड के ऊपर चला गया और मैंने मुठ मारनी शुरू कर दी। तभी चाचा ने अपना अंडरवियर उतारा और चाची को अपने लंड के ऊपर झुका लिया और चाची, चाचा के लंड के सामने बैठ गयी और में बैठी हुई चाची की गांड देख रहा था वो बड़ी मस्त थी।

फिर चाची, चाचा का लंड हाथ में पकड़े हुई थी और कहने लगी कि यह तो बहुत बड़ा है और यह अंदर कैसे जाएगा? और फिर चाचा का लंड चूसने लगी और चाचा भी चाची की गांड को झुककर दबा रहा था। तो चाचा ने चाची को बिस्तर पर लेटा दिया और तभी मुझे चाची की मस्त चूत के दर्शन हुए गोरी गोरी उभरी हुई चूत और चाचा, चाची के ऊपर 69 की पोज़िशन में लेट गये और चाची की चूत को चाटने लगे और चाची, चाचा के लंड को बड़ी मस्त होकर चूसने लगी.. वो कभी उनके आँड को तो कभी लंड के सुपाड़े को कुल्फी की तरह चूस रही थी और उन दोनों को उस हालत में देखकर मेरी भी मुठ मारने की स्पीड बढ़ गयी। तभी थोड़ी देर बाद चाचा ने चाची को नीचे किया और चाची की चूत के मुहं पर लंड के सुपाड़े को रखा तो चाची सिहर उठी और कहने लगी आपका लंड बहुत बड़ा है ज़रा धीरे धीरे करना। तो चाचा बोले कि तुम फ़िक्र मत करो मेरी जान.. आज में तुम्हे जन्नत की सैर कराऊंगा।

फिर चाचा ने एक ज़ोरदार धक्का मारा तो लंड फच की आवाज़ करता हुआ चूत में घुसता चला गया और चाची ज़ोर से चिल्लाई उईई माँ मर गई में आज कहा था ना धीरे करना और चाची की चूत में से खून निकलकर चाचा के लंड पर लग गया। तभी चाचा, चाची को चूमने लगे और उनकी बूब्स को दबाने लगे चाची भी मस्त होने लगी और तभी चाचा ने दूसरा धक्का मारा और लंड अब पूरा का पूरा चूत में चला गया.. चाची फिर चिल्लाई उईईइ अह्ह्ह मर गयी। फिर क्या था चाचा ने धक्के पे धक्के मारने शुरू किये और अब चाची को दर्द कम मज़ा ज़्यादा आने लगा और चाची नीचे से उचक उचककर चाचा का साथ देने लगी। चाचा का लंड पूरी तरह गीला हो चुका था और मुझे लग रहा था कि चाची झड़ चुकी थी.. लेकिन चाचा तो धक्के पे धक्का लगा रहे थे और चाची की आवाज़ पूरे कमरे मे गूँज रही थी आई ईईईईईई अह्ह्ह उईईईई।

फिर चाचा ने अपना लंड चाची की चूत से निकालकर चाची के मुहं तक लाकर उनके मस्त गुलाबी होंठो पर रख दिया और चाची किसी भूखी शेरनी की तरह चाचा के लंड को चूसने लगी और चाचा, चाची की चूत में अपनी उंगली से चाची को चोदने लगे और एक हाथ से चाची के मोटे चूतड़ और गोल गोल मोटे बूब्स को सहला रहे थे। फिर चाचा थोड़ी देर बाद बिस्तर पर सीधे लेट गये और उनका लंड एकदम तना हुआ था.. तभी वो चाची से बोले कि आजा मेरे ऊपर आकर मुझे चोद और चाची बोली कि अब तक आपने मुझे चोदा.. अब क्या अब में भी आपको चोदूँ? तो चाचा बोले कि हाँ और तभी चाची, चाचा के ऊपर आ गई और अपनी चूत के मुहं पर लंड को रखा और उस पर बैठ गयी और पच की आवाज़ के साथ पूरा लंड चूत में चला गया और चाची, चाचा के कंधो पर अपने दोनों हाथ टिकाकर ज़ोर ज़ोर से धक्के मारने लगी और पूरे कमरे में चाची की आवाज़ गूँज रही थी और चाचा भी चिल्ला रहे थे और ज़ोर ज़ोर से मारो मेरी रानी.. हाँ और ज़ोर से। तो चाची की मोटी गांड किसी पानी से भरे गुब्बारे की तरह ऊपर नीचे हो रही थी और चाचा का सीधा वाला हाथ चाची की गांड पर और दूसरे वाले हाथ की दो उंगली चाची की गांड के छेद में घुसी हुई थी और चाची उईई माँ मर गई माँ अहह उह्ह की आवाज़ निकाल रही थी। तभी चाचा ने चाची को ऊपर से हटने को कहा और चाची को घोड़ी बनने को कहा.. चाची भी मस्ती में थी और वो बन गयी और मुझे चाची की गोरी बड़ी गांड का छेद साफ साफ नज़र आ रहा था.. वो चाचा की दो उंगलियों की वजह से बहुत फैला हुआ था। फिर चाचा ने पहले तो चाची की चूत में लंड डाला और चाची मस्त हो चुकी थी।

तभी चाचा ने लंड चूत में से बाहर निकाला और चाची की गांड के छेद पर रख दिया.. चाची डर गयी और बोली कि नहीं गांड में नहीं मुझे बहुत दर्द होगा। तो चाचा ने कहा कि मेरी रानी में हूँ ना तुम बिल्कुल भी चिंता मत करो दर्द नहीं होगा और ज़ोर से धक्का मार दिया.. आधे से ज़्यादा लंड चाची की चूत में चला गया। तो चाची बहुत ज़ोर से चिल्लाई उउईइ माँ मर गई में और चाची की गांड फट गयी थी और उसमे से थोड़ा सा खून भी बाहर आ गया था.. लेकिन चाचा कहाँ रुकने वाला था? चाचा तो धक्के पे धक्का लगा रहा था। तो चाची भी कुछ देर बाद पूरे जोश में आ गयी थी और कहने लगी कि हाँ ज़ोर से और ज़ोर से। तो चाचा भी चाची की गांड पर चढ़ पड़ा था और वो गांड को चोद रहा था और जैसे ही लंड को बाहर निकाला तो चाची की गांड का छेद बहुत ढीला पड़ चुका था। तो इधर में भी मुठ मार रहा था और मुझे भी बहुत मज़ा आ रहा था और इस बीच चाची दो बार झड़ चुकी थी.. लेकिन चाचा अभी भी नहीं झड़ा था। फिर चाचा ने चाची को नीचे लेटाया और धक्के लगाने शुरू किए और चाची भी अपनी गांड उछालकर नीचे से ही चाचा के धक्को का जवाब दे रही थी। चाचा की स्पीड बडती जा रही थी और मेरा हाथ भी मेरे लंड पर बड़ी तेज़ी से चल रहा था और चाचा भी धक्के पे धक्का लगा रहा था। तभी चाचा, चाची की चूत में और में अपने बेड पर झड़ गया और चाची भी चाचा से लिपटकर तीसरी बार झड़ चुकी थी ।।

धन्यवाद

INDIAN SEX STORY : मामी के मुँह में मेरा लण्ड

INDIAN SEX STORY : मामी के मुँह में मेरा लण्ड

मेरे प्यारे दोस्तो, आज मैं आपको अपनी एक सच्ची कहानी बताने जा रहा हूँ… मेरा नाम युवराज है। मैं 20 साल का हूँ और मेरा कद 5.7 है, मैं सतारा- महाराष्ट्रा से हूँ। अब मैं मेरी मामी के बारे में बताता हूँ, उनका नाम सविता है और वो 32 साल की हैं। उनकी फिगर 32-30-34 की है और एकदम गोरी हैं। दोस्तो, यह कहानी जनवरी 2009 की है… मेरी मामी उस समय कुछ कार्यक्रम से उनके ससुराल आई थीं, चार दिन के लिए और सब कार्यक्रम होने के बाद वो पुणे जा रही थी, लेकिन वो अकेली थी और उनके साथ उनके दो बच्चे थे। उनके पति यानी मेरे मामा सरकारी नौकरी में है तो वो नहीं आए थे, मेरी मामी ने मुझसे बोला – तुम हमें पुणे छोड़ आओ और कुछ दिन वहाँ रह भी लेना। मैंने बोला – सोच के बताता हूँ, क्यूँ की मेरा कॉलेज था। उसके बाद मामा का भी कॉल आया कि मामी को छोड़ने पुणे आ जाओ, तो फिर मैंने हाँ बोल दी। दो दिन बाद मैं मेरी मामी के साथ पुणे चला गया। मेरे मामा उस वक्त मुंबई में थे, नौकरी के कारण और एक दिन रहने के बाद मामा वापस चले गये। मामा को दो लड़के थे – एक 7 साल का और एक 3 साल का। तो दोस्तो, मेरी मामी घर में गाउन पहनती थीं, उनका बड़ा लड़का सुबह 8 बजे स्कूल जाता था और 4 बजे आता था। छोटा सिर्फ़ 3 साल का था। मैं मेरी मामी के साथ ही पूरा दिन बात करता और टी।वी। देखता था। सुबह मैं अक्सर देर से ऊठता था पर मामी सुबह जल्दी नहा लेती थीं। ऐसे ही एक दिन नहाने के बाद, मामी ने मुझे उठाया और मैं जब नहाने बाथरूम में गया तो देखा कि मामी की काली पैंटी सुख रही थी… उसी दिन दोपहर को मैंने और मामी ने खाना खाया और फिर मैं टीवी देख रहा था और मामी किचन में थीं। दोस्तो, ना जाने मुझे क्या सूझा, मैं उठा और किचन में जा कर सीधे मामी को पीछे से कस के पकड़ लिया। मैं सच कह रहा हूँ, मुझे पता ही नहीं चला कि उस वक्त मुझे क्या हुआ… मैं पागलों की तरह, मामी के बूब्स दबाने लगा। मामी बोलीं – ये क्या कर रहे हो तुम, पागल हो गये हो क्या? मैंने कुछ सुना नहीं और बस मामी को यहाँ-वहां दबाने लगा। फिर मामी ने मुझे ज़ोर से धकेला और बोला – पागला गये हो क्या? ये सब क्या कर रहे हो? मैंने बिना सोचे मामी को बोला – आप मुझे बहुत अच्छी लगती हो। फिर मामी बोलीं – तुम सच मे पागल हो गये हो। मैंने मामी को कहा – मुझे नहीं पता, पर मुझे अभी आपके साथ सेक्स करना है… और मैंने सीधा मामी को फिर से पकड़ लिया। मामी छुड़ाने की बहुत कोशिश कर रही थीं, पर मैंने ज़ोर से पकड़ रखा था। मामी बोलीं – ऐसा मत कर ये सब अच्छा नहीं है। मैंने कुछ नहीं सुना, सीधा मैंने उनके मुँह में मुँह डाल दिया और किस करने लगा और उनकी पीठ सहलाने लगा। उनको किस करते वक्त मुझे बहुत मज़ा आ रहा था, पर मामी अभी भी मना कर रही थीं। मैंने उनको ज़ोर-ज़ोर से चूमा। मैं बेतहाशा उनके बूब्स दबा रहा था। कुछ देर बाद मैं उनकी गाण्ड दबाने लगा। कुछ देर ऐसे ही ज़बरदस्ती करने के बाद मामी भी गरम होने लगीं थीं। धीरे-धीरे अब वो मना नहीं कर रही थी… फिर आख़िरकार मामी भी मेरा साथ देने लगीं थीं… सो, अब मैंने मामी का गाउन और पेटिकोट ऊपर किया और पैंटी के ऊपर से ही उनकी चूत सहलाने लगा। मामी आ… आ… आहह… उफ़… उः… कर रही थीं। कुछ ही देर में वो बहुत गरम हो गईं थीं, अब मैंने मामी का गाउन और पेटिकोट उतार दिया। मामी बस अब क्रीम कलर की ब्रा और नेवी ब्लू कलर की पैंटी में थी। फिर मैंने ब्रा के हुक खोल दिए और मामी के बूब्स नंगे कर दिए और ज़ोर-ज़ोर से दबाने लगा। फिर मैंने उनके नंगे चुचों को मुँह में लिया और उन्हें चूसने लगा। मैं अब मामी का पूरा शरीर चाट रहा था, उनकी जांगें… उनका पेट… हाथ… गला… चुचे… गाण्ड… सब कुछ। कुछ देर बाद मैंने मामी को गोद में उठाया और बेड पर लिटा दिया… मैंने अब मेरी टी शर्ट और पैंट निकाल दी और सिर्फ़ अंडरवियर में उनके उपर लेट गया और मुँह में मुँह डाल के चूमने लगा। क्या मस्त लग रहा था
मुझे… फिर मामी ने खुद ही अपनी दोनों टाँगे फैलाई और मैं सीधा उनकी पैंटी के उपर से ही उनकी चूत चाटने लगा। पैंटी बिल्कुल गीली थी, बहुत ही मादक स्वाद था उनकी पैंटी का… अब मैंने पैंटी उतार दी और देखा गीली पड़ी नंगी चूत जिसपर छोटे-छोटे बाल थे। मैंने बिना देर किए उसके अंदर अपनी उंगली डाली और अंदर-बाहर करने लगा। मामी को भी अब बहुत मजा आ रहा था, मैंने देर ना करते हुए सीधा मुँह चूत के ऊपर रखा और गीली नंगी चूत चाटने लगा। चूत में से जो पानी आ रहा था, वो भी मैं लगातार चाट रहा था… 15 मिनट चूत चाटने के बाद, मैंने मामी से कहा – मामी, मेरा लण्ड मुँह में ले लो… मामी भी मेरा लण्ड अपने हाथों से सहलाने लगी और फिर मुँह मे लेकर चूसने लगीं। मैंने अब मामी को 69 पोज़िशन में ले लिया… मामी मेरा लण्ड चूस रही थीं और फिर से मैं मामी की गीली नंगी चूत चाट रहा था और साथ ही साथ में उनकी गाण्ड भी चाट रहा था। भले ही मामी चुप थीं पर हम दोनों को ही बहुत मजा आ रहा था। 10 मिनट तक मामी ने मेरा लण्ड चूसा और फिर मैंने मामी को लिटाया और उनकी चूत मे लण्ड डालने लगा। धीरे-धीरे धक्के दे रहा था और लण्ड मामी की चूत में जा रहा था, बहुत ही गरम हो गई थी, मामी की चूत… 4-5 ज़ोर के धक्के देने के बाद मेरा लण्ड पूरा अंदर घुस गया और फिर मैं लण्ड को मामी की गीली चूत में अंदर-बाहर करने लगा। मामी भी सिसकारियाँ ले रहीं थीं। कुछ ही देर में मामी भी ज़ोर-ज़ोर से अपनी कमर को ऊपर-नीचे करने लगीं। फिर उन्होंने मेरी कमर को पकड़ लिया। मैं लगातार धक्के दे रहा था और मामी मेरी पीठ में नोच रही थीं, मुझे दर्द हो रहा था जिससे मैं ज़ोर-ज़ोर से मामी की चूत मे लण्ड अंदर-बाहर कर रहा था। करीब बीस मिनट के बाद मामी की चूत में से गरम-गरम पानी आया और उसके दो मिनट में मैंने भी मेरा रस, मामी की चूत मे छोड़ दिया… फिर काफ़ी देर मैं ऐसे ही पड़ा रहा, मामी के ऊपर… उस दिन रात को मैं ने मामी के साथ पाँच बार सेक्स किया… आज भी मुझे जब मौका मिलता है तब मैं और मामी सेक्स करते है। ये कहानी कैसी लगी ये ज़रूर बताना…

Indian sex story : Maami ki choot phadi

Indian sex story : Maami ki choot phadi

Indian sex story Maami ki choot phadi

Indian sex story presents चूत चुदाई की शुरूआत मामी के साथ
उस वक्त मैं भी साधारण लड़कों की तरह था जब मेरी मामी की उम्र 25 वर्ष रही होगी, साइज़ उनका कमोवेश ठीक ही था.. लेकिन वो गोरी ज्यादा हैं.. दिखती भी अच्छी हैं..एक बार मामी हमारे घर आई हुई थी, सब कुछ ठीक चल रहा था।उस दिन घर में कोई नहीं था, मैंने अपने फोन में पोर्न फ़िल्म डलवाई बाजार से.. मैं पहली बार पोर्न फ़िल्म देखने वाला था, तो बहुत उत्तेजित था।उस दिन बिजली भी नहीं आ रही थी.. तो हम दोनों लोग छत पर बैठे थे.. क्योंकि गर्मी के दिन थे।अब मामी के सामने मैं ब्लू-फिल्म कैसे देखता.. तो मैंने मामी से कहा- मैं नीचे जा रहा हूँ।तो उन्होंने कहा- ठीक है..मैं नीचे आ गया और तुरंत चालू करके देखने लगा। उसी वक्त मामी को प्यास लगी होगी.. तो उनको नीचे आता देख कर मैंने तुरंत फोन बन्द कर दिया।मामी ने कहा- अपना फोन दो ज़रा.. मुझे गाने सुनना है।
मैंने फोन दे दिया.. फिर सोचा कि उसमें जो है.. वो बता दूँ.. क्योंकि अगर बिना बताए.. मामी ने देख लिया तो मेरी फजीहत होगी।तो मैंने उन्हें बताया- मामी आज जब मैं गाने डलवाने गया था.. तो उसने एक गन्दी वाली फिल्म भी डाल दी.. अभी थोड़ी देर पहले ही मुझे पता चला है।तो वो सुन कर चुप रह गईं और कुछ नहीं बोलीं। थोड़ी देर बाद वापस आईं और बोलीं- दिखाओ वो फ़िल्म.. और तुम मत देखना.. तुम्हें नहीं देखनी चाहिए..मैंने कहा- क्यों.. मैं भी बस थोड़ी सी देखूंगा..वो मुस्कुरा दीं और बोली- अच्छा ठीक है आ जा..फिर हम वो फ़िल्म देखने लगे.. मुझे तो कुछ नहीं हुआ.. थोड़ी देर तक मगर मामी बड़े ध्यान से देख रही थीं.. थोड़ी देर बाद मुझे अहसास हुआ कि उनका जिस्म ऐंठ रहा है।मुझे शर्म आने लगी तो मैंने नज़र घुमा ली।कुछ देर बाद उन्होंने पूछा- कभी ऐसे किया है?मैंने कहा- पागल हो क्या मामी?तो उन्होंने बात घुमा दी.. फिर हम लेट गए और देखने लगे।तभी मुझे महसूस हुआ कि मामी की एक टांग मेरे लिंग पर रगड़ खा रही है और वो घूम कर मेरी तरफ लेट गई थीं।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !पहली बार उस दिन मैंने मामी की आँखों में इतनी करीबी से देखा था.. वासना उनकी आँखों में साफ दिख रही थी।मैंने भी उनका साथ देना शुरू कर दिया.. हालांकि मैं तब बिलकुल अनाड़ी था।मैंने मोबाईल बन्द कर दिया.. मुझसे उनके ब्लाउज के हुक नहीं खुल रहे थे। उन्होंने खुद खोल दिए मैं उनके मम्मों को चूमने लगा।उसके बाद उन्हें नीचे से भी खुद को नंगा कर दिया। अब हम दोनों एक-दूसरे को चूम रहे थे।तभी उन्होंने मेरा कच्छा हल्का सा खींच कर मुझे इशारा किया कि इसे उतारो..मैंने कहा- खुद ही उतार लो।जब मैं उनके ऊपर चढ़ा था.. तो उन्होंने अचानक से खींच दिया और मेरा लिंग सीधा उनकी योनि से टकरा गया।ना तो मैंने उनकी योनि चाटी और न उन्होंने मेरे लिंग को चूमा।तो मैं उनकी योनि पर अपना लिंग रगड़ रहा था और अन्दर डालने का असफल प्रयास कर रहा था।थक हार कर मैंने कहा- तुम ही डालो अन्दर..तो उन्होंने मेरा लिंग पकड़ा और छेद पर टिका दिया।मामी ने पहली बार मेरा लिंग पकड़ा था.. तो मुझे बहुत गुलगुली सी लगी।वहाँ बहुत गीलापन था.. मैंने थोड़ा सा धक्का मारा तो लण्ड अन्दर घुसता चला गया.. लेकिन पूरा नहीं गया था।मामी ने मुझे जोर से भींच लिया.. मेरा लिंग साधारण लम्बाई का है.. लगभग 5.6 इंच का ही होगा।मैं फिर आगे बढ़ता गया.. मुझे काफी जलन सी हो रही थी.. क्योंकि वो मेरा पहली बार था।जब हम सम्भोग कर रहे थे तो मामी ने कहा- यश.. ये बात कभी किसी से कहना मत..तो मैं बड़ी मासूमियत से बोला- मैं क्यों कहूँगा..इतना समझदार मैं भी था कि ये बातें किसी से नहीं बतानी चाहिए।फिर मैं तेज़-तेज़ धक्के मारने लगा.. मामी बिलकुल मुझे अपने अन्दर भर लेना चाहती हों.. मुझे ऐसा लग रहा था।अब मेरा वीर्य निकलने वाला था.. तो मैं खुद पर नियंत्रण नहीं कर पाया.. मैंने अन्दर ही माल गिरा दिया.. और बिलकुल चिपक गया उनसे..वो प्यार से मेरे बालों को सहला रही थीं.. और बोल रही थीं- पहली बार के हिसाब से तुम काफी अच्छे हो।मैं बस मुस्कुरा के रह गया।मेरे लिंग में अब भी जलन हो रही थी.. फिर हमने कपड़े पहने और अपने-अपने कमरों में चले गए.. लेकिन उस रात पूरी मुझे नीँद नहीं आई।