Desisexstory : Didi ne chudwaya hospital me

Desisexstory : Didi ne chudwaya hospital me
Desisexstory : Didi ne chudwaya hospital me

Hello everybody, aap sabhi chudakkad bhaiyon aur unki behno ko mere lund ka fanfanata hua salam.
Hi dosto ye meri apni sachi aur pehli kahani hai.Doston me es site ka regular reader hoon. Aap sabo ki kahaniyo ko padh kar laga ki mujhe bhi apne experience ko share karna chahiye.
to doston ab aapka jyada samay nahi lete hue main apni kahani start karta hoon. Ye baat year 2003 ki hai jab meri ek badi cousin sis mererghar per aayi hui thi.Us samay me ek company ka contract per kaam ker rha tha garmiyo k din the , jab main ghar pahuncha to dekha ki meri didi ghar per aayi hui hai. Us waqt tak mujhe unke baare me koi waisi feeling nahi thi. Garki ki wajahcse man pasine se bhinga hua tha, maine unke saamne hi apni t shirt ko utaar rha tha, pata nhi kyo jab maine unki aankhon me dekha to mujhe ajib si chama nazar aae.
khair us din to wo turant hi wapas chali gayi kyonki jija bhi saath me hi tha. Per jaane se pehle didi ne mera mobile no. mujhse le liya aur apna bhi de diya. Unke wapas jaane ke kuch hi din baad unke no. se mujhe ek pic message aaya’ I LOVE YOU’ with taj mahal. MUJHE kuch samajh nahi aaya to maine reply nahi kiya.Dusre din didi ka mujhe phone aaya aur unhone mujhe kaha ki gussa ho to maine kaha esme gussa hone wali kaun si baat hai kyo gussa hounga, to unhone kuch nahi kaha.
kuch dino tak aise hi message karti rhi aur main bhi karta rha. Dheere dheere mujhe samajh aane laga ko mujhse chudna chahti hai. AB main bhi uske naam ka muth marne laga aur sochta ki kab use chodne ka mauka mile.
Aur achanak ek din kaamdev ne meri sun li. Hua yoon ki meri didi ki saas ki tabyat bahot jyada kharab ho gayi thi aur unhe mere sehar ke ek doc k yahan admit hona pada.MERI DIDI apne saas ka dekhbhaal karne k liye saath me aae thi. Mauka nikal kar main bhi unki saas ko dekhne pahuncha shaam ko. Main wahan pahuncha to dekha saas soi thi. Mujhe dekhkar meri dd bahot khus ho gayi kyoki hospital k room me use chodwaane ka mauka milne wala tha.

MAIN didi k bagal me chair per baith gaya, woh mujhe seduce kar rhi thi per main ye sochker ki kahin saas jaag na jaye shaanth baitha rha jabki mere lund ki nase tan rhi thi.
Mujhe darte dekh kar boli tension mat lo maa ko maine 4 zolax (neend ki goli) de diya hai woh nahi jagegi. Per mujhe phir bhi dar laga rha tha ki achanak woh uthi aur mere chair k piche aa ker khadi ho gayi aur jabardasti mere sir ko pakad kar apne honth mere honth per chipka ker choosne lagi. Maine kisi tarah se us se apne ko chudaya, to didi attach bathroom me jaane lagi maine ishara kiya to mujhe bula liya.
Bathroom me ghusne ke saath hi usne mujhe pakad ker mere honthon ko chusna start ker diya main bhi uske honthon ko chusne laga. CHUSTE CHUSTE maina apna ek haath uski choochi per rakh ker masalne laga aur ek haath se uske bur ko. Lips chuste hue karib 15 minute ho gye ab maine uske petticot ko uthaya aur apna sir uske andar daal ker uski boor ko sungha.
Sunghte hue maine uski panty utari aur uske bur per apne honth laga diye. uski bur poori tarah se gili ho gayi thi. Thoda dd k bur ki wyakhya karta hoon meri dd ki bur per chote kaale baal the jinhe sehlaane me bada maza a rha uske bur ki puthiya bilkul hi tight ho gayi. Ab na to mujhse na hi dd se raha jaa rha tha wo boli ab chodo mujhe, maine apni jeans utari aur chaddi utar kar lund ko dd k hanth me de diya usne ek pal bhi gawaye bina mere lund ko apni bur per laga ker bola pelo. Maine ek dhakka lagaya aur mera lund uski bur me aadha ghus gaya, w boli dheere karo tumhara lund to tere jija se teen guna hai. mera lund garv se aur tan gaya. dd ko khade chodne me mujhe thodi dikkat ho rahi thi to maine dd ko kaha doggy style me karte hai, use pata nahi tha doggy style to boli kya, maine kahan tu jukh me daalu. Ab use jhuka ker maine piche se uki bur me lund daal ker chod rha tha aur haanth aage badha ker uski choochiyon ko masalne laga.
Jab main jor se dhakka lagata wo chihunk padti aur kehti dheere chodo. Kuch der baad wo jhadne waali thi aur apni bur ko mere lund per patakne lagi. Uske jhadte hi maine bahot chaha ki aur chodun per pata nhi kya hua mere lund ne virya ka phavwara uski bur me chod diya.

Phir dd ne mujhe chumte hua kaha tu to apne jija se bhi achi chudai karta hai kahan se sikha. to maine kahan ki dd tum mera pehla bur ho jise mere lund ne choda hai warna aaj tak main sirf muth mara karta tha, aur rahi baat chudai ki to wo maine blue filmo ko dekhkar sikha hai.

Desisexstory : Tenant Aunty Ki Chudai

Desisexstory : Tenant Aunty Ki Chudai

Desisexstory : Tenant Aunty Ki Chudai
Matrix from Mumbai. This is my True Story. As I’m also thebig fan of ISS erotic story aap nai mere pehlai ki ek story parhi hogi gf ki net cafe main chudai so main ek orstory kai sath hazir hoon yeh mere karaye darni ki story hai jinhai main chachi keh kar bulata tha unka naam nighathai or yeh waqya aaj sai 6 to 7 months pehlai ka hai main nai aapko apnai barai main pehlai he bata dya tha ab main apni chachi kai barai main bata deta hoon unki shadi huwai 6 years huwai hain unkai 1 sonor 1 daughter hai jin ki age 3 or 4 years hai unkai huband ek sarkari mulazim hain but woh nsha bohot kartai hain raat ko dair sai ghar aana unka rozana daily ka aana raat kai 3 ya 3.30 ka tha jis ki waja sai sai chachi bahir sai lock lagwa daiti thin takai woh raat ko aajen chachi dikhnai main itni khas tu nahin hain but unka figure gazab ka hai 40 42 40hoga moti moti gand motai motai dodh gazab ki cheez thin mera unkai han aana jana tha main aksar unkai bachon ko khilanai kai bahani sai jatatha dopeher main es waja sai woh porai ghar main mujh sai he ziada free thin or main un sai main aksar baton baton main unkai gaal pakar kar kehta tha chachi u r so sweet yeh sab main maskai lagata tha bcz mainnai unko chodna jo tha or woh hans kai taal dete thin or main yeh sochta rehta tha kai woh din kab aaega jab chachi mere sath sex karaingi but koimoqa nahin milta tha ek din woh moqa mil he gaya main nai socha kion na enhai raat main he check kya jae hamara makan 3 floor per mushtamil hai.Jo kai nechai hum log rehtai thai or us sai oper kareydar or sab sai oper raat ko main akela sota tha ek raat main 12:30 bajai kai kareeb unka door khol kai andar chala gaya dekhatu chachi so rahi thin phir bhi main nai unkai pass jakai aawaz lagae chachi chachi main nai 4 ya 5 martaba aawaz lagae mujhai koi response nahin mila phir main nai unki legs hila kai uthana chacha but woh nahi uthin mere himat barhgae or main samjh gaya kai chachi gehri nend sai so rahi hain phir main nai ekhath unkai boobs per rakha or usai ahista ahista push karnai laga woh kuch nahin bolin phir main thora or pressure sai dabaya jab bhi woh kuch nahin bolin or mere himmat or barh gae or main nai unkai donon bachon ko utha kai 2srai room main lit akai aagaya or khud chachi ki bagal main laita gaya or phir unkai boobs press karta huwa apna ek hathunki vagina per rakh kai sehlanai laga or unki saans teez honai lag gaen main samjh gaya kai chachi uthi hoe hain or sonai ka natak kar rahi hain phir main nai unki ahista ahista kameez puri oper kardi or brazzer kai hook khol kai usai bhi oper kar dya or unkai boobs ko suck karnai laga kia boobs thai maaza aagay 10 to 12 min suck karnai kai badh main unki shalwar ka nara khola or ahista sai shalwar bhi aadhi nechai kardi or unki vagina jungle kaiandar chupi hoe thi unki vagina per bohot hair thai woh abhi tak sonai ka natak kar rahin thin or main apnai kaam kai andar bikul mast hokai lagahuwa tha phir main nai apni ek ungli unki chut kai andar dali tu woh sisak gaen or ek dum sai aankh khool li or bola plz thori taiz ungli karo or main nai apni ungli ki speed barhadi or un kai moonh sai aaaahhhhhhhh ooooooooooh maaaaaaaaaaaaaaarrrgaeeeeeeeeeeeee ki aawazain aanai lagin or keh ja rahin thin or taiz shabash tere uncle nai aaj tak es tarah sai pyar nahin kiajaisai tu kar raha hai tu main nai chachi sai kaha kai abhi.Main sirf aapka guzara kar sakta hoon bcz agar uncle aagaye tu hum 2no pakrai jaengai or mere ghar walaimujhai nahin choraingai so abhi sirf thori si aag bujha sakta hoon main aapki tu unhon nai kaha chalo abhi tukuch karo mujh sai raha nahin ja raha or main nai ahista ahsita apnai porai cloth utar dye or mera 7″ lamba or 3″mota lund dekh kar chachi khush hogaen or kehnai lagin aaj tu mujhai bohot maza aaega main nai pocha kion tu kehnai lagin tere uncle ka tu 6″inch bhi pura nahin hai woh 5 min main he jhar jatai hain or mere apni chut ki pyas apni ungli sai bujhati hoon but ab mujhai koi tens nahi hai mujhai mera saman mil gayaor ab tu mujhai kabhi bhi chod sakta hai or main nai dair na kartai huwai chachi ki choot kai lips per apnai lund ko ragra or zor sai jhatka mara mere thora sa lund andar chala gaya main dung reh gaya or main nai chachi sai chottai he bola chachi aapki choot tu ek dum kunwari larki jaisi hai tu unhon nai kaha kai tere uncle tu din main kaam per or raat konashai main lagau rehtai hain tu ab tu he bata kai jab woh mujhai free nahin karaingai tu mere chut khuli hogi ya kunwari larki ki tarah band tu main nai chachi sai kaha main hoon na or main nai dobara ek zor dar jhatka mara mera adhai sai ziada lund chachi ki chut main chala gaya or unkai monh sai ek cheekh nikalnai he wali thi tu.Main nai unkai lips per apnai lips rakh kai kiss karnai laga unhai dard ho raha tha thori dair main nechai saioper dabao dalnai lagin main samjh gaya kai ab woh mazai laina chati hain or main nai ek or jhatkai sai poralund unki chut main utar dya or unkaimonh sai ajeeb ajeeb si aawazain aanai lagin aaaaaahh oooohhhhhhhhhh maaaaaaaaaaaaaaa margae phardal mere chut ko sali nai bohot tarpaya hai bujha dai aaj eski aag or main naifull speed marta huwa chachi ko free kardya or main non stop jhatkai dainai laga kareeb 20 min kai badh main jharnai he wala tha kai main naichachi sai kaha kai main jharnai walahoon tu unhon nai kaha kai mere chut main he chor dai or main nai apni or speed barhae or ek dum sai unkai oper lait gaya or 69 position main kiss karnai laga es doran chachi 2 martaba jhar chuki thin or takreeban un waqt 2 ka time huwa tha tu main nai chachi sai bola kai uncle aanai walai hain main chalta hoon or main nai jaldi jaldi apnai cloth pehnai or oper naha dhokai fresh ho kai sogaya agai ki kahani main next story main likhonga raat ki ek chdae kai badh sai main nai din main unko kae bar choda or taqreban2 months tak karta raha uskai badh woh chali gaen

Desi sex story : Yoga Instructor taught me the joys of love making

Desi sex story : Yoga Instructor taught me the joys of love making

Desi sex story  Yoga Instructor taught me the joys of love making

और मुझे ब्लूफिल्म देखना तभी से बहुत अच्छा लगता था और मैंने बहुत फ़िल्मे देखी थी और सोचता था कि मुझे कब यह मौका मिलेगा?.. हम जिस सोसाईटी में रहते थे वहाँ पर साईड वाली सोसाईटी में एक फेमिली में पति पत्नी रहते थे. उनकी दो छोटी जुड़वाँ लड़कियाँ थी.. करीब दो साल की और में उनके साथ खलने के लिए कभी कभी उनके घर पर चला जाता था. में उन आंटी को रूखसाना चाची बुलाता था. उनके पति का उन्ही के साईड वाले फ्लेट में एक बहुत बड़ा स्क्रेप का बिजनेस था और उनके पड़ोस वाली आंटी के पति भी रुखसाना चाची के पति के साथ काम करते थे और शायद मुझ पर धीरे धीरे ब्लू फ़िल्मो का असर होने लगा था.. फिर जब भी में उनकी लड़कियों के साथ खेलता तो बीच बीच में मेरा ध्यान चाची के फिगर पर चला जाता था. उनके वो बड़े बड़े बूब्स उनके कुर्ते के बाहर से भी दिख जाते थे.. वाह क्या नज़ारा होता था?

फिर एक बार की बात है में कॉलेज से जल्दी घर पर आया था.. लेकिन उस समय मेरे घर पर कोई नहीं था और घर पर ताला लगा हुआ था. तभी मुझे साईड वाली रुखसाना चाची ने अपनी खिड़की से झाँककर आवाज़ लगाई और मुझे ऊपर बुला लिया और में उनके फ्लेट के दरवाज़े पर पहुंचा. तो रुखसाना चाची ने मुझसे कहा कि तुम्हारे घर वाले बाहर गये हैं और वो मुझसे कहकर गए थे कि उन्हे आने में थोड़ी देर हो जाएगी. तो मैंने एकदम मासूम सी शक्ल बनाकर उनसे पूछा कि तो तब तक में कहाँ जाऊं? तो रुखसाना चाची ने हंसकर कहा कि क्यों क्या तू अपनी रुखसाना चाची के घर पर नहीं रुक सकता? तभी मेरे तो मन में लड्डू फूट पड़े और फिर भी मैंने अपने पर काबू रखकर उनसे पूछा कि क्यों चाचा बुरा तो नहीं मानेंगे? तो रुखसाना चाची ने मुस्कुराकर जवाब दिया कि वो क्यों बुरा मानेंगे? और वैसे भी वो यहाँ पर वो नहीं है.. वो दोनों बच्चियों को लेकर उनकी दादी से मिलने गये हैं और कल दिन तक ही लौटेंगे.

फिर यह बात सुनकर मेरा तो उछलने को दिल कर रहा था.. लेकिन फिर भी मैंने चाची से पूछा कि अगर बच्चे यहाँ पर नहीं हैं तो में यहाँ बैठकर क्या करूँगा? में तो बोर हो जाऊँगा. तो रुखसाना चाची ने कहा कि क्यों टीवी देखो और मेरे साथ कुछ बातें करो.. उसमे तो बोर नहीं हो जाओगे ना? दोस्तों बस आज तो मेरे दिल की मुराद पूरी हो गयी थी और में भी ठीक है कहकर.. अंदर जाकर सोफे पर बैठ गया और थोड़ी देर रुखसाना चाची से बात करने के बाद में टीवी देखने लगा और चाची उठकर किचन में चली गयी. तभी डोर बेल बजी तो मैंने दरवाज़ा खोला और मैंने देखा कि बाहर दरवाजे पर पास वाली दूसरी चाची खड़ी थी.. वो मुझे देखकर पहले तो बहुत चकित हो गयी. फिर अपने आपको संभाल कर बोली कि अरे फ़िरोज़ तुम यहाँ कैसे? तब मेरे कुछ कहने से पहले ही रुखसाना चाची ने कहा कि फ़िरोज़ के घर वाले बाहर गये हुए हैं इसलिए वो मेरे कहने पर यहाँ पर रुका है. तो वो चाची भी अंदर आ गई और रुखसाना चाची के साथ किचन में चली गयी और हंस हंसकर बातें करने लगी.

फिर कुछ देर बाद मुझे थोड़ी प्यास लगी थी तो में पानी पीने के लिए किचन की तरफ चला गया. तभी में दरवाज़े पर ही रुक गया क्योंकि रुखसाना चाची और वो चाची बातें कर रही थी और में उनको देखकर वहीं पर रुक गया और चुपके से उनकी बातें सुनने लगा.. तब रुखसाना चाची की बातें सुनते ही मेरे तो मानो होश ही उड़ गए.. मुझे तो अपने कानो पर ही भरोसा नहीं हो रहा था. रुखसाना चाची उन आंटी से कह रही थी कि आज अच्छा मौका मिला है तुम कहो तो मिला दूँ बेहोशी वाली दवा? तो आंटी कह रही थी कि अगर किसी और को पता चला तो क्या होगा? तो रुखसाना चाची बोली कि चिंता मत करो किसी को पता नहीं चलेगा और इससे अच्छा मौका फिर नहीं मिलेगा. फिर उनकी सभी बातें सुनकर में जल्दी से बाहर आ गया और ऐसे बैठ गया जैसे मुझे कुछ पता ही नहीं.. बस इतना पता चला की चाची और आंटी मुझे कोई बेहोशी की दवा देने वाली हैं.. लेकिन में यह बात नहीं समझ सका कि वो दोनों मुझसे क्या चाहती? और में उसी वक़्त उनसे पूछ लेता.. लेकिन मुझे पता करना था कि वो करना क्या चाहती है.

तभी रुखसाना चाची मेरे पास चाय का कप लेकर आ गयी और मुझे चाय पीने को कहा.. पहले तो मैंने सोचा कि मना कर दूँ.. लेकिन फिर सोचा कि पता लगाना चाहिए कि आख़िर यह दोनों करना क्या चाहती है? फिर मैंने चाची के हाथ से चाय का कप लिया और चाची से कहा कि में चाय थोड़ी देर में पी लूँगा और फिर मुझे चाय देने के बाद चाची जैसे ही किचन में गयी.. में जल्दी से उठकर बाल्कनी में गया और चाय को बाहर एक कोने में गिरा दिया और जल्दी से वापस आकर सोफे पर बैठ गया और अब में बेहोश होने का ड्रामा करने वाला था और मैंने जानबूझ कर धीरे धीरे सोफे पर बेहोशी से गिरने का नाटक किया.. लेकिन थोड़ी सी आखें खुली रख ली. फिर मेरे सोफे पर गिरते ही किचन से रुखसाना चाची और आंटी दौड़ती हुई बाहर आई और पूरा विश्वास कर लिया कि में ठीक से बेहोश हुआ या नहीं. फिर में उन दोनों की बातचीत सुन रहा था. रुखसाना चाची बोली कि.. लगता है बेहोश हो गया?

आंटी : मुझे भी यही लगता है रुखसाना चाची.. लेकिन इसकी तो आखें थोड़ी खुली सी लग रही है.

आंटी : अरे कभी कभी बेहोशी में ऐसे ही आखें खुली रह जाती हैं

रुखसाना चाची : तो फिर देर किस बात की? चलो जल्दी से इसे उठाकर बेडरूम में ले चलो.. बेडरूम का नाम सुनकर तो में बहुत चौंक गया.. लेकिन बेहोशी का ड्रामा जो कर रहा था इसलिए चुपचाप बिना कुछ हलचल किए लेटा रहा. तो रुखसाना चाची ने मेरे हाथ पकड़े और आंटी ने मेरे पैर और इसी तरह वो दोनों मुझे उठाकर बेडरूम में ले गई और मुझे बेड पर लेटा दिया.

रुखसाना चाची : तो क्या फिर शुरू करे अपना काम?

आंटी : हाँ हाँ क्यों नहीं बहुत दिन हो गये किसी जवान लड़के से गांड मरवाए हुए और में तो अपनी तड़पती हुई गांड से बहुत दिनों से परेशान हो चुकी हूँ.. अब तो आज इसका पूरा इलाज करना ही पड़ेगा और इसको शांत करना होगा.

तो बस उनके मुहं से यह बात सुनते ही मेरे तो पूरे बदन में बिजली सी दौड़ गयी और मेरा तो मन कर रहा था कि कि तुरंत उठकर दोनों को रंगे हाथ पकड़ लूँ.. लेकिन में वैसे ही रहा था और उनका काम चलने दिया. फिर जो कुछ हुआ वो में कभी सोच भी नहीं सकता था.. उन दोनों ने मिलकर मेरे कपड़े उतारने शुरू कर दिए.. जैसे ही मेरी शर्ट पेंट उतर गई.. रुखसाना चाची तो जैसे मुझ पर बहुत बरसों से भूखी हो.. वो एकदम कूद पड़ी और मेरे गालों को और मेरी छाती को चूमने लगी और अपनी जीभ से मेरे पूरे शरीर को चाटने लगी. फिर मेरा तो लंड तुरंत ही अंडरवियर के अंदर तनकर खड़ा हो गया और उनको सलामी देने लगा.. तभी आंटी ने रुखसाना चाची से कहा कि अरे रुखसाना इसका लंड तो तुरंत ही टाईट हो गया.. यह पक्का बेहोश तो है ना?

तो रुखसाना चाची जो कि अब तक पूरे मूड में आ चुकी थी.. उन्होंने आंटी की बात पर बिल्कुल भी ध्यान नहीं दिया और आंटी से कहा कि बेहोशी में भी इन्सान का दिमाग़ काम करता है और लंड खड़ा हो जाता है.. तो ज्यादा इन बातों पर ध्यान मत दो और अपना काम शुरू करो. तो आंटी ने भी उनकी बात मान ली और आंटी ने जैसे ही मेरी अंडरवियर उतारी तो रुखसाना चाची और आंटी तो मानो किसी भूखी बिल्लियों की तरह मेरे लंड पर झपट पड़ी. तभी मेरे तो मुहं से चीख निकलते निकलते ही रह गई और रुखसाना चाची मेरे लंड को अपने मुहं में एक बार में ही पूरा लेकर चूसने लगी और आंटी मेरी गोलीयाँ मुहं में लेने लगी और धीरे धीरे सहलाने लगी और अब मेरी तो हालत एक अधमरे शेर जैसी हो गयी.. जैसे कि शिकार मेरे सामने हो.. लेकिन में कुछ कर नहीं सकता था. में तो बस चुपचाप पड़ा रहा और तभी थोड़ी देर तक यह सब करने के बाद रुखसाना चाची ने अपने और आंटी के कपड़े उतारे और एक दूसरे को किस करने लगी और बूब्स को दबाने लगी और में थोड़ी सी आखें खुली रखकर यह सब कुछ देख रहा था.

तभी थोड़ी देर के बाद रुखसाना चाची मेरे ऊपर आई और जैसे ही उन्होंने मेरे लंड पर अपनी चूत को सेट करके धीरे धीरे दबाया तो मेरी आधी जान हलक तक आ गयी.. क्योंकि इससे पहले मैंने कभी किसी को नहीं चोदा था.. लेकिन किसी तरह से में अपने आपको संभलकर लेटा रहा और फिर क्या था? रुखसाना चाची तो मेरे लंड से अपनी चूत चुदवाने लगी. तभी में इस दर्द से मन ही मन चीख रहा था कि आंटी ने अपनी चूत मेरे मुहं पर रख दी और घिसना शुरू कर दिया.. मेरा मन तो बहुत किया कि अपनी जीभ से आंटी की चूत का रस चाट लूँ.. लेकिन में एकदम चुप रहा. फिर कुछ देर तक रुखसाना चाची ने मेरे लंड से अपनी चूत को उछल उछलकर चुदवाया और फिर वो नीचे उतार गई और आंटी अपनी प्यासी चूत को लेकर मेरे लंड पर सवार हो गई और अब मेरे मुहं पर चाची की चूत का नंबर आ गया.. लेकिन इस बार जो रुखसाना चाची की चूत का स्वाद मुझे मिला वो आंटी की चूत से कई बेहतर था.. वाह अभी भी वो बात सोचकर मुहं में पानी आ जाता है.

फिर इतना होने के बाद भी दोनों रुकी नहीं.. इस बार रुखसाना चाची ने तो हद ही कर दी.. उन्होंने तो इस बार अपनी एकदम चिकनी सी गांड ही मेरे लंड पर रख दी और अब तो मुझसे रहा नहीं जा रहा था.. लेकिन रुखसाना चाची की गांड में मेरा लंड जा ही नहीं रहा था.. तो आंटी ने उन्हे लंड पर से उठाया और मेरे लंड को चूसा.. लेकिन फिर भी वो नहीं घुसा तो वो उठकर गई और उस पर कोई तेल लाकर लगाया. फिर रुखसाना चाची से कहा कि तुम अब ट्राई करो और फिर उन्होंने वैसे ही किया और अब की बार मेरा लंड रुखसाना चाची की गांड में चिकना होने की वजह से एक ही बार में फिसलकर चुपचाप से चला गया और रुखसाना चाची की एक जोरदार चीख निकल पड़ी और साथ ही मेरी भी.. लेकिन में अपने मन ही मन में चीख रहा था. फिर बस थोड़ी देर गांड मरवाने के बाद रुखसाना चाची थक गयी और मेरे लंड का पानी भी रुखसाना चाची की गांड में निकल गया और लंड एकदम ढीला पड़ गया और तब जाकर रुखसाना चाची मेरे लंड पर से उठी..

लेकिन इतने पर भी उन दोनों को शांति नहीं मिली. आंटी तो अब भी मेरे लंड को लोलीपोप की तरह ज़ोर ज़ोर से चूसे जा रही थी और आख़िरकार दो घंटे के बाद दोनों की आग शांत हो गयी और वो दोनों बहुत थककर पसीने से नहाकर मेरे अगल बगल में लेट गयी. फिर कुछ देर बाद मेरा लंड फिर से एक बार और टाईट हो गया तो अब की बार मुझसे रहा नहीं गया और मेरे सब्र का बाँध टूट गया और में तुरंत उठकर खड़ा हो गया और फिर मुझे होश में देखकर तो मानो रुखसाना चाची और आंटी की जान ही निकल गयी और उनके मुहं से तो हल्की सी चीख भी निकल गयी और रुखसाना चाची ने कहा कि अरे फ़िरोज़ तो क्या तुम इतनी देर से बेहोश नहीं थे? तो मैंने कहा कि हाँ चाची में तो एकदम पूरे होश में था और जब आप दोनों बारी बारी मेरे लंड से अपनी चूत को चुदवा रही थी और अब जब की मैंने आप दोनों को रंगे हाथ पकड़ लिया है तो अब मुझे तो इनाम चाहिए ही.. फिर क्या था?

फिर हुआ वही जो में चाहता था. ज़िंदगी में मिले उस पहली चुदाई के मौके को में कैसे छोड़ देता. मैंने उसका जमकर फायदा उठाया और रुखसाना चाची और आंटी को जमकर बारी बारी से चोदा. बस फिर क्या था? मैंने उस दिन उन दोनों को करीब तीन घंटो तक लगातार चोदा.. कभी चाची की गांड मारी तो कभी आंटी की चूत और कभी उनके मुहं में झड़ता तो वो दोनों एक एक करके मेरे लंड को चूसकर साफ कर देती और कुछ देर में फिर से खड़ा कर देती. मैंने दोनों की चूत और गांड मार मारकर लाल कर दी थी. मैंने उनको हर तरह से चोदा.. कभी घोड़ी बनाकर तो कभी खड़े खड़े.. दोस्तों उस दिन को आज पाँच साल हो गये हैं.. पर आज भी में रुखसाना चाची और आंटी दोनों को मौका देखकर एक साथ तो कभी अलग अलग चोदता हूँ और उनकी चूत की आग को ठंडा करने की कोशिश करता हूँ ..

Momsexstory : Ejaculated sperm in my mom hot wet pussy

Momsexstory : Ejaculated sperm in my mom hot wet pussy

Momsexstory : Ejaculated sperm in my mom hot wet pussy
This is a story about Mom and Son, that’s between mom n me. Ten years ago I was going to a local college and still lived with my parents. I was a pretty fit young man. At that time I was completing my B.E. Mech. I am the only son of mom and dad. When I told him something about my birth, dad left us and settled somewhere on the earth ten years ago. We never know whether he is alive or not. My mom was 38. She was very attractive with brunette hair, about 5′7. At thirty-eight, mom had the body and looks of a twenty-one year old. Her boobs were full, firm and had such prominent nipples, plus a number ten ass.

One Saturday morning I was lying in bed reading some text book, phone rang. Father was out of town for some company work. Mom was in kitchen preparing lunch. Phone rang about six-seven times I thought mom would receive the call so I didn’t picked up the receiver. As there was no response from mom so I picked up but mom might have picked up that receiver a second before me. I heard a man’s voice.

The person continues on phone, “Hi Honey.”

I was aback as I heard someone calling mom Honey.

Mom replied in somewhat shaking voice, “You!”

“Ya, did you told that secrete to your son?”

“No, I won’t.”

“If you don’t want him to know that you have sexual relations with more than ten peoples before his birth so only god can tell him whose son he is? I wanna enjoy two nights with you.”

I was shocked. I kept that receiver and went out to call dad to tell all this matter. From that day dad never tried to contact us. That’s what I wanted I didn’t want him to return home.

Same afternoon mom came to my room, “Sweat heart your grandma is not feeling well so I wants to meet her I will be back day after tomorrow.”

I didn’t say a word to her and allow her to go I know where she was going but I don’t want to spoil our relationship.

When I got home late Monday night, Mom was sitting at the kitchen table. Judging from the half empty bottle of scotch in front of her, she was probably good and relaxed now. Mom looked sexy sitting there in her silk Sari. The fabric was thin and as she stood up one end of the Sari slipped showing her large breasts and her nipples from see through blouse. “I guess I’ll go to bed now.” she said.

I was also drunk that night and it made me feel like talking. I knew that it’s the right time to talk about that call. I told her that I want to ask something. She sat back down, poured herself another drink and asked me to tell her about it. “Mom I want to know, who is my biological father?” I asked.

Mom surprised. “What?”

“Mom, I heard your telephonic conversation with somebody on Saturday.”

“But!”

“And I also know that you didn’t go to grandma’s place.”

“OK as you have already known all this I won’t lie. But honey actually even I can’t tell you about your father because that night I spend my whole night with four friends.”

She started crying loudly I couldn’t help her.

“It’s OK my sweat mom. I can understand you.”

I didn’t went deep into that subject. I knew my mother was a sex machine. I heard on phone about mom and her friends going at it night after night, sometimes for hours!

Then mom went to her bedroom I also went to mine. But I was feeling uneasy that night so I laid down on bed for two three hours. Finally I decided to smash into mom’s room.

There was plenty of light in the room and I could see mom was sleeping in her bed! I saw her thighs from her see through gown. My dick got immediately hard. I walked near mom and leaned to see her closely. Mom’s nipples visible they were less than a half an inch away from my lips! Suddenly mom woke up, “You? What are you doing here?”

“Shhhh…, Don’t shout I know what you had done in last two days. I want to kiss you, your ass and your sweat wet pussy.” I said without any hesitation thanks to drink.

“Are you alright don’t you know to whom you are talking with?” mom scared somewhat.

“Ya to a beautiful slut I want you to suck my dick and I want to fuck you hard” my drink was working perfectly.

“Honey, I really didn’t know you felt that way, I mean, how could an attractive young man find an old women like me that attractive to do all that stuff you said ,” my mom said while she shyly looked at the floor.

“Well mom, you are real attractive, I mean, I.., I’m more attracted to you than I am to women my own age.”

She closed her eyes, she was lying on her bed. As she had not withdrawn I chanced touching her breast through her nightdress, she just lay there so I began to cup her breast in my hand and gently knead it. Her eyes remained closed though her lips parted and she was breathing a little faster.

I continued to play with her breast with one hand and I put my other hand on her knee. Again no withdrawal, so I began to rub her leg just above her knee, each rub pushing the hem of her night dress further up her thigh. Her legs were together and I tried to put my hand between here thighs. She clamped tight. “no” she said. “Its only skin I said its no different to stroking your arm” For a short while I thought the moment was lost but then she sighed, closed her eyes and opened her legs. Not just so I could touch her inner thigh but full access to her fanny. With a trembling hand I began stoking her pubic hair and gradually let my fingers explore. She was soaking wet and she gave a slight “uhh” as I gently probed her vagina with my fingers. I would have liked to play some more but I was real hard and want mom to suck my disck.

I asked her to play with my long n hard shaft.

“Wow mom I never, ooohhhh… yeah… you felt that way about me, ohhhh, uhhhh,” I said as Mom kneeled in front of me and starting sucking my dick, she first started by circling the head, teasing me each time she licked my dick. She then started to put my whole dick in her mouth, sucking harder each time she sucked.

“OHHH…yeah mom, I never imagined that you could, uhhhh…suck, uhhhh…dick so good,” I said I she sucked my dick.

“I’m going to cum…,” I said as she started sucking harder and harder.

As I came she sucked some of the cum, but then she took my dick out of her mouth and let all my cum run down her body, down to her tits and gently down to her stomach.

After that encounter we took rest for sometime. Then mom stared at me and kept her hand on her wet pussy.

I automatically understood and started to lick her beautiful pussy.

“Oh sweaty your such a great pussy eater, come one, make your mother cum, ohhhh. yeah!”

I just kept on licking her pussy and then I stuck my tongue deep into her pussy and circled my tongue all around. I then started to feel my mother orgasm.

“Ohhhh…Tommmmm…I going to cum, uuuuhhhhhhh…ohhhhhh…you so great son, uhhhh…”

She orgasmed I ate all her tasty juices, I then went over next to her and asked her if I could fuck her through her wet pussy; my dick had gotten extremely hard again.

The sound of it seemed to shake her out of her sexual frenzy and in a small, pleading voice she said “No.” But it was more of a request than an order.

I said, “Mom, we’ve both been drinking. In the morning neither of us will even remember what happened.”

After some argument she finally agreed.

Mom was now on her back with her legs spread out and I was on top of her, I kept my head at her chest level and was sucking on her nipples. Then I started moving back and forth between each of them. Soon mom was on the verge of release, when mom told me that she was going to Cum I took both nipples in my hands and began squeezing them harder and harder. At the same time I slid down mom’s naked body and across her abdomen, and then I glued my lips to her dripping pussy!

As my tongue touched Mom’s clit, she violently came.

Mom yelled at me,

“Fuck me!, Fuck me now, while I’m Cuming!”

Then I quickly got on my knees and was in mom’s pussy before she finished the sentence! She threw her legs around my back and screamed at me, over and over,

“FUCK ME!”

I started deep stroking mom’s very tight pussy. I was pushing the entire seven inches deep inside of her, clear to my balls and then pulling it back to where just half of the head stayed inside of the opening to mom’s pussy!

“Oh mom your pussy is so good, uuuuh…oh yeah, your so great mom, ohhhhh…come on how do you like that,” I said as I started to fuck her harder and then started to to take her tits in my fingers.

“OHh…son, I about to cum, fuck me harder, put your whole dick into your horny mommy, oh yeah Tom, just like in the, uhhhh…story, where I uhhh…cum so hard.”

Soon I was on the cusp of my own impending orgasm. I slammed the end of my big dick against mom’s womb and told her,

“Here it is, I’m going to fill your pussy with my Cum!”

Mom, “No don’t cum in me! I’m unprotected!”

With a lot of effort I pulled my dick from mom’s pussy and ejaculated all over her stomach and small breasts, some of cum even shot all the way to her face and hair! When cum hit mom in the tits and face she had another massive orgasm, even stronger than the previous one!

I looked down at mom’s Cum covered body and had a terrible thought,

“Holy fucking shit! What have I fucking gone and done?”

Afterwards we lay together and we went to sleep after that intense session which has to be the best I have ever had.

Desisexstory : Didi ki chudai hospital me

Desisexstory : Didi ki chudai hospital me

Desisexstory : Didi ki chudai hospital me

Hello everybody, aap sabhi chudakkad bhaiyon aur unki behno ko mere lund ka fanfanata hua salam.
Hi dosto ye meri apni sachi aur pehli kahani hai.Doston me es site ka regular reader hoon. Aap sabo ki kahaniyo ko padh kar laga ki mujhe bhi apne experience ko share karna chahiye.
to doston ab aapka jyada samay nahi lete hue main apni kahani start karta hoon. Ye baat year 2003 ki hai jab meri ek badi cousin sis mererghar per aayi hui thi.Us samay me ek company ka contract per kaam ker rha tha garmiyo k din the , jab main ghar pahuncha to dekha ki meri didi ghar per aayi hui hai. Us waqt tak mujhe unke baare me koi waisi feeling nahi thi. Garki ki wajahcse man pasine se bhinga hua tha, maine unke saamne hi apni t shirt ko utaar rha tha, pata nhi kyo jab maine unki aankhon me dekha to mujhe ajib si chama nazar aae.
khair us din to wo turant hi wapas chali gayi kyonki jija bhi saath me hi tha. Per jaane se pehle didi ne mera mobile no. mujhse le liya aur apna bhi de diya. Unke wapas jaane ke kuch hi din baad unke no. se mujhe ek pic message aaya’ I LOVE YOU’ with taj mahal. MUJHE kuch samajh nahi aaya to maine reply nahi kiya.Dusre din didi ka mujhe phone aaya aur unhone mujhe kaha ki gussa ho to maine kaha esme gussa hone wali kaun si baat hai kyo gussa hounga, to unhone kuch nahi kaha.
kuch dino tak aise hi message karti rhi aur main bhi karta rha. Dheere dheere mujhe samajh aane laga ko mujhse chudna chahti hai. AB main bhi uske naam ka muth marne laga aur sochta ki kab use chodne ka mauka mile.
Aur achanak ek din kaamdev ne meri sun li. Hua yoon ki meri didi ki saas ki tabyat bahot jyada kharab ho gayi thi aur unhe mere sehar ke ek doc k yahan admit hona pada.MERI DIDI apne saas ka dekhbhaal karne k liye saath me aae thi. Mauka nikal kar main bhi unki saas ko dekhne pahuncha shaam ko. Main wahan pahuncha to dekha saas soi thi. Mujhe dekhkar meri dd bahot khus ho gayi kyoki hospital k room me use chodwaane ka mauka milne wala tha.

MAIN didi k bagal me chair per baith gaya, woh mujhe seduce kar rhi thi per main ye sochker ki kahin saas jaag na jaye shaanth baitha rha jabki mere lund ki nase tan rhi thi.
Mujhe darte dekh kar boli tension mat lo maa ko maine 4 zolax (neend ki goli) de diya hai woh nahi jagegi. Per mujhe phir bhi dar laga rha tha ki achanak woh uthi aur mere chair k piche aa ker khadi ho gayi aur jabardasti mere sir ko pakad kar apne honth mere honth per chipka ker choosne lagi. Maine kisi tarah se us se apne ko chudaya, to didi attach bathroom me jaane lagi maine ishara kiya to mujhe bula liya.
Bathroom me ghusne ke saath hi usne mujhe pakad ker mere honthon ko chusna start ker diya main bhi uske honthon ko chusne laga. CHUSTE CHUSTE maina apna ek haath uski choochi per rakh ker masalne laga aur ek haath se uske bur ko. Lips chuste hue karib 15 minute ho gye ab maine uske petticot ko uthaya aur apna sir uske andar daal ker uski boor ko sungha.
Sunghte hue maine uski panty utari aur uske bur per apne honth laga diye. uski bur poori tarah se gili ho gayi thi. Thoda dd k bur ki wyakhya karta hoon meri dd ki bur per chote kaale baal the jinhe sehlaane me bada maza a rha uske bur ki puthiya bilkul hi tight ho gayi. Ab na to mujhse na hi dd se raha jaa rha tha wo boli ab chodo mujhe, maine apni jeans utari aur chaddi utar kar lund ko dd k hanth me de diya usne ek pal bhi gawaye bina mere lund ko apni bur per laga ker bola pelo. Maine ek dhakka lagaya aur mera lund uski bur me aadha ghus gaya, w boli dheere karo tumhara lund to tere jija se teen guna hai. mera lund garv se aur tan gaya. dd ko khade chodne me mujhe thodi dikkat ho rahi thi to maine dd ko kaha doggy style me karte hai, use pata nahi tha doggy style to boli kya, maine kahan tu jukh me daalu. Ab use jhuka ker maine piche se uki bur me lund daal ker chod rha tha aur haanth aage badha ker uski choochiyon ko masalne laga.
Jab main jor se dhakka lagata wo chihunk padti aur kehti dheere chodo. Kuch der baad wo jhadne waali thi aur apni bur ko mere lund per patakne lagi. Uske jhadte hi maine bahot chaha ki aur chodun per pata nhi kya hua mere lund ne virya ka phavwara uski bur me chod diya.

Phir dd ne mujhe chumte hua kaha tu to apne jija se bhi achi chudai karta hai kahan se sikha. to maine kahan ki dd tum mera pehla bur ho jise mere lund ne choda hai warna aaj tak main sirf muth mara karta tha, aur rahi baat chudai ki to wo maine blue filmo ko dekhkar sikha hai.

To dosto ye meri life ki pehli chudai ki kahani hai. waise meri dd bahot hi chudasi hai. eske baad maine kai baar uske ghar per jaa ker use choda, aur ek baar to hamare ghar per ek shaadi me use raat bhar choda. Baanki ki kahaniya agle post me bataunga.

बेटी ने माँ को चुदवाया

बेटी ने माँ को चुदवाया

momsexstory

मैं 6 साल पहले इटारसी आया तो मैंने एक सुशिक्शित परिवार से भरपूर परिवार में किरायेदार की हेसियत से रहने लगा. उस परिवार में मेरे अलावा उनकी बड़ी लड़की रिन्की और रिन्की की मम्मी रुमणी और पापा सुरेश अग्रवाल रहते है. रिन्की के पापा इटारसी शहर में एक कॉटन कम्पनी में काम करने के कारण अधिकतर बाहर ही रहते हैं. यह परिवार वाले मुझे अपने बेटे जैसा ही मान कर मेरी खिदमत करते थे और मुझे अपने परिवार का ही एक सदस्य समझते थे उनके घर का माहोल शुरु से ही बड़ा खुला हुआ था घर में रिन्की की माँ को मैं आंटी कहँ कर पुकारता था और रिन्की को दीदी, आमतोर पर रिन्की ऐसे कपड़े पहनती थी जो की कोई और लोग शायद बेडरुम में ही पहनना अच्छा समझे. हालाँकी उसकी माँ रुमणी हमेशा साड़ी-ब्लाउज पहनती थी..

आंटी और रिन्की दीदी घर में मेरे सामने ही अपने मासिक (एम.सी) से सम्बधित बाते करती जैसे की आज मेरा पहला दिन है, या रिन्की को बहुत परेशानी महसूस हो रही है या ज्यादा ब्लीडींग हो रहा है. आमतोर पर आंटी और रिन्की दीदी मेरे सामने ही कपड़े बदलने में कोई ज्यादा शंकोच नहीं करती थी, एक बार रिन्की दीदी की सभी सहेलियां होली खेलने हमारे घर आई तो में दुबक कर दरवाजे के पीछे छुप गया, तब किसी को नहीं मालूम था की में घर में ही छुपा हुआ हूँ, खेर रिन्की दीदी और उसकी सहेलियो ने वहाँ पर घर के हॉल और बाथरुम के पास में काफ़ी नंगापन मचाया, एक दूसरे के कपड़े फाड़ते हुये लगभग नगं दड़ंग पोजिशन में एक दूसरे के ऊपर रंग लगाया, होली की दोपहर को आंटी भी मोहल्ले वालो के घर से रंग में सराबोर होकर आई और मुझे बिना रंग के देख रिन्की दीदी से कहने लगी की इस बेचारे ने क्या पाप किया है जो इसे सूखा छोड़ दिया, और रिन्की दीदी को इशारा कर मुझे पकड़ कर गिरा दिया और मेरे पूरे शरीर पर रंग लगा दिया, रिन्की दीदी ने तो रंग कम पड़ने पर अपने शरीर को ही मुझसे रगड़ना शुरु कर दिया.

मैं पहले नहा धोकर आया उसके बाद आंटी और रिन्की दीदी दोनो एक साथ बाथरुम में नहाने लगी. मुझसे रहा नहीं गया और मैं चोरी छुपे बाथरुम में देखा तो दोनो केवल पेन्टी पहन कर एक दूसरे की चूचियों पर लगा रंग छुड़ा रहे थे यह देखा तो मेरी आँखें फटी की फटी रह गयी. कुछ ही महीनो बाद रिन्की दीदी की शादी रतलाम में हो गयी और वह अपने ससुराल चली गयी, कुछ महीनो के बाद गमियो के महीनो में रिन्की दीदी कुछ दिनो के लिये अपनी माँ के पास रहने के लिये आई. जीजाजी रिन्की दीदी को छोड़ने के लिये दो दिनो के लिए आये थे. मैंने देखा की रिन्की दीदी शादी के बाद अब और ज्यादा बिंदास सेक्सी और कामुक हो गयी है, और क्यों ना हो अब उसके पास लाइसेन्स जो था, मेने जीजाजी को भी काफ़ी खुले विचारो वाला पाया. शाम को खाने के बाद उन्होने अपने हनीमून के फोटो्स दिखाये जिसमे वह दोनो गोवा के समुन्द्र किनारे बिकनी और स्विविमिंग कॉस्टयू्म्स में ही नज़र आये.

अचानक बिजली गुल हो गयी और काफ़ी देर तक नहीं आई इसलिये उस रात हमने ऊपर छत पर सोने का प्लान बनाया. छत पर एक लोहे का पलंग पड़ा हुआ था जिस पर जीजाजी ने मुझे सुला दिया, और वह दोनो इतनी गर्मीं में अंधेरे में चिपक कर सो गये. थोड़ी देर बाद जब अंधेरे में दिखने लगा तो मेने देखा की रिन्की दीदी जीजाजी के उनका 7 इंच लंबा लंड पकड़कर मस्ती से हिला रही थी और बार-बार उनका लंड चूस रही थी, उनकी सेक्सी चूमा चाटी और होने वाली खुस्फ़ुसाहट के कारण मेरा 6 इंच लंबा लंड भी तंबू जैसे तना हुआ था, और फट कर बाहर आ जाने को हो रहा था, तभी दीदी बोली की उसे बाथरुम आ रही है तो जीजाजी ने मुझे आवाज़ लगाई, लेकिन में आँखें बंद किये हुये नींद आने का बहाना बनाये पड़ा रहा तो दीदी बोली की शायद सो गया होगा, तब रिन्की दीदी उठी और बेड पर से ही अपनी पेन्टी को नीचे उतारती हुई छत के कोने में पेशाब करने बेठ गयी.

आसमान की हल्की रोशनी में उसके गोरे-गोरे और बड़े-बड़े चूतड़ चमक रहे थे जिनको देख कर जीजाजी भी उठे और अपनी लूँगी एक और फेक कर वी शेप की चड्डी में से अपना लंड निकाल कर पूनम दीदी के चूतडो के ठीक पीछे लंड लगा कर पेशाब करने बेठ गये, और अपने दोनो हाथो से सेक्सी दीदी की चूचियों को दबाने लगे. इसके बाद तो वो दोनो खड़े-खड़े ही अंधेरे में चुदाई करने लगे रिन्की दीदी की मदहोशी में कामुक साँसे और आवाज़े मुझे पागल बना देने के लिये काफ़ी थी, मैं अपनी आधी आखें बंद कर यह सब देख रहा था, और ना जाने कब मेरी आंखँ लग गयी, सुबह लगभग 5 बजे छत पर ठंडी हवाओं के कारण मेरी आँख खुली तो मेने देखा की रिन्की और जीजाजी एक दूसरे पर चढ़ कर सोये हुये थे, शायद सेक्स करने के बाद उनकी नींद लग गयी और वो अपने आप को सही भी नहीं कर पाये. रिन्की दीदी की पेन्टी तो पेरो में पड़ी थी और उसकी नाईटी उसके नंगे कमर पर पड़ी हुई थी.

जीजाजी भी पूरे नंगे थे और उनका सिकुडा लंड दीदी की हल्के काले बालो वाली चूत में से बाहर लटक रहा था, ऐसा सीन देख मेने सबसे पहले तो लपक कर मूठ मारी और उसके बाद अपनी सेक्सी दीदी की चूचियों को देखने की कोशिश की लेकिन जीजाजी के सीने से दबे होने के कारण मुझे कुछ ज्यादा नहीं देखने को मिला. सुबह करीब 9 बजे मैं उठा तो देखा दीदी और जीजाजी उठ चुके थे मैं नहा धोकर फ़्रेश होकर हम सब ने साथ में नाश्ता किया. दीदी और जीजाजी आने के कारण आंटी जी ने मुझे कहा अंकल नहीं है घर में तो दीनू तुम एक हफ़्ते की दफ़्तर से छुटी ले लो इसलिये मैंने एक हफ़्ते की छुटी ले ली थी. सुबह दिन भर हम तीनो ने पिक्चर हॉल में पिक्चर देखी और कई जगह घूमने भी गये जब शाम को 7 बजे हम घर लोटे तो मैंने और जीजाजी ने विस्की पीने का प्लान बनाया और जब विस्की पी रहे थे की अचानक जीजाजी के ऑफ़ीस से फोन आया की उन्हें कल किसी भी हालत में आकर रिपोट करनी है तो जीजाजी ने सुबह जल्दी जाने का प्रोग्रराम बना लिया.

जब दीदी को पता चला की जीजाजी कल सुबह ही जा रहे है तो वो उदास हो गई. हम लोग भी जल्दी से खाना खाकर जीजाजी का बेग तैयार कर कर छत पर सोने चले गये. कल रात की तरह हम लोगो ने अपना बिस्तर लगा कर सो गये. करीब एक घंटे बाद मैंने अंधेर में मेने देखा की आज भी रिन्की दीदी जीजाजी को ज्यादा परेशान कर रही थी अपनी नाइटी नंगी जांघो पर चड़ा कर पेन्टी उतारकर अपनी रसीली चिकनी चूत को जीजाजी के मुहँ पर रख कर उनका लंड मुहँ में लेने की जिद कर रही थी, लेकिन जीजाजी दिन भर की थकान के कारण सोने के मूड में थे, और उन्हें सुबह जल्दी जाना भी था, जीजाजी जब सो गये तो दीदी भी अपनी चूत को हाथ से रगडती हुई सो गयी, बेचारी या कर सकती थी, अगली सुबह जब आंटी ने मुझे उठाया और कहा महिप तुम्हारे जीजाजी को ट्रेन में बैठा कर आ जाओ तो मैं जल्दी से फ़्रेश होकर नहा धोकर तैयार होकर जब दीदी के कमरे में गया तो देखा की रिन्की दीदी जीजाजी से एक बार मज़े देने का कह रही थी और बोल रही थी.

की आपके बिना मेरा मन कैसे लगेगा तो जीजाजी बोले की तेरे दीनू भाई ने एक हफ़्ते की छुटी ले ली है इसीलिये महिप का साथ रहेगा तो मुझे किसी बात की फ़िक्र नहीं रहेगी. और रिन्की दीदी और मैं जीजाजी को ट्रेन में बैठाने के लिये चल पड़े. जब ट्रेन जाने लगी तो रिन्की दीदी बड़ी उदास सी हो गयी. जब हम घर लोटे तो नाश्ता करने के बाद हम बोर हो रहे थे तो आंटी ने हमे सुझाव दिया की महिप तुम और रिन्की आज कमरे की सफाई कर लो तब तक मैं खाना बनाती हूँ इससे तुम्हारा मन भी लग जायेगा. मैंने पजामा और टी शर्ट पहन ली और रिन्की दीदी ने सफ़ेद पतले कपड़े का कुर्ता पहन रखा था और नीचे लूँगी जिसमे से उसकी गोरी-गोरी सफेद जाघे दिख रही थी, वह लंबे वाले स्टूल पर खड़ी हुये थी, और में नीचे से उससे सामान लेता जा रहा था, दीदी का कुर्ता शॉट स्लीव का था जिसमे से दीदी के मोटे-मोटे स्तन कभी कभी दिख जाते थे, और काली-काली चुचियां बाहर से ही दिखाई दे रही थी उन्होने ब्रा नहीं पहनी थी.

कभी कभी वह मुझे देख कर अपने हाथो से अपनी चूत को रगड़ने लगती, जब वो सामान लेने के लिये हाथ उठाकर सामान उतार थी तो, हाथ उठाने से उसकी अंडर आर्मस के काले-काले घने बाल देख मेरा लंड टनटना शुरु हो गया, गनीमत थी की मेने पजामा पहन रखा था, कई बार भारी सामान होने के कारण दीदी का स्टूल पर बेलेन्स नहीं बनता तो वह अपने पेरो को चोड़ा कर पास की अलमारी पर पैर रखती तब तो उसकी पेन्टी जो की सफ़ेद कलर की थी ऐसी दिखती मानो अभी उसे खोल कर लंड डाल दूँ, बीच-बीच में पानी पीते समय दीदी शायद जानबुझ कर अपनी सफेद महीन कुर्ते पर पानी डाल लेती जिससे उसकी चूचियों के निपल साफ दिखाई देने लगते खेर किसी तरह हम दोनो ने कमरे मैं साफ सफाई की और नाहकर खाना खाया. और दोपहर को थोड़ी देर आराम करके हम शाम के समय हम बाज़ार घूमने निकल पड़े

जब हम घर लोट रहे थे तो दीदी बोली दीनू भाई आज तुम्हारे जीजाजी गये तब से मेरा मूड कुछ उखड़ा उखड़ा हुआ है और मूड ठीक करने के लिए या तुम मेरे लिए बीयर ला सकते हो. फ़िर मैं दुकान जाकर करीब 5 बीयर की बोतल ले आया. और जब हम करीब 7:30 बजे घर पहुँचे तो आंटी खाना बना रही थी और मैं और दीदी छत पर जाकर बीयर पीने लगे. करीब एक दो बीयर पीने के बाद दीदी कहने लगी की मुझे ज़ोर से पेशाब आ रही है और बिना किसी शर्म या पर्दे के उसने मेरे सामने ही उसने अपनी पेन्टी खोल दी और नाइटी ऊँचा उठा कर अपनी मोटी-मोटी गांड दिखाती हुये वह छत के एक कोने में जाकर मूतने बेठ गयी, उसके मूतने से जो झर-झर की तेज अवाज़ हो रही थी वह सुन में बहक सा गया और उनकी मोटी- मोटी गांड को एकटक देखने लगा शायद दीदी समझ गयी थी की मैं उसकी और मुहँ करके उसको मूतते हुये देख रहा हूँ.

तभी उसने मुहँ घूमाकर मेरी और देखा और एक आँख मारकर सेक्सी अवाज़ बना कर कहने लगी की आजा शरमाये मत मेरे पास आकर तू भी मूत ले, मैं जानती हूँ तुम ने उस रात चोरी चोरी चुपके चुपके मुझे और तेरे जीजाजी को मूतते हुये देखा था यह सुनकर मैं सकपका गया लेकिन फ़िर भी हिम्मत करके दीदी के ठीक पास में बेठ गया और अपने खड़े हुये मोटे और लंबे लंड को क़ैद से निकाल कर मूतने लगा, दीदी झुक-झुक कर मेरा लंड फटी-फटी आँखों से देखने लगी और बोली भैया तू तो वास्तव में पूरे मर्द हो मम्मी और मैं तुझे यू ही छोटा समझती थी. तूने अभी तक अपने औज़ार को कहीं काम में लिया है या यूँ ही तेज़ धारदार हथियार लेकर घूमता रहता है, दीदी की ऐसी बातें सुन मैं चुप सा हो गया और इधर -उधर देखने लगा की कही कोई देख तो नहीं रहा है, लेकिन अंधेरा देख बेफ़िक्र हो मैं सीधा खड़ा हो गया, मूतने से बड़ा हल्कापन महसूस हो रहा था दीदी के मन में क्या है यह मैं अब तक समझ नहीं पाया था, योकि मेरे दिमाग़ ने तो दीदी के मोटे मोटे चूतडो को देख कर ही काम करना बंद कर दिया था.

खेर किसी तरह खाना खाने के बाद वो आंटी को बोली मम्मी आज बड़ी गर्मीं है चलो छत पर जाकर सोते है. तब आंटी बोली नीचे कोई नहीं है मैं आँगन में सोती हूँ तुम भाई बहन ऊपर छत पर सो जाना. फ़िर हम छत पर आकर दोनो पलंगो को करीब करीब (थोड़ा सा गेप रख कर) सोने लगे तो दीदी बोली दीनू नींद नहीं आ रही है और दीदी ने अपना असली जलवा दिखलाना शुरु कर दिया, उसने बड़े सेक्सी अंदाज़ में मुझे देखते हुये अपने ब्लाउज को खोल दिया, जिसमे से उसके दोनो गरदाये हुये मस्त कबूतर फड़फडा कर बाहर आ गये, उनको हाथो से सहलाते हुये वह कहने लगी की देख भैया इनको बेचारे ये भी गर्मीं के कारण कैसे कुहँला गये है, आज तेरे जीजाजी होते तो अब तक तो इन्हें मुहँ में लेकर एकदम ताजा कर देते, ऐसी बात सुन मेरे को ऐसा करंट लगा की मेने भी सोचा की जब रिन्की दीदी संकोच नहीं कर रही है तो यों ना दिखा दूँ अपनी मदानगी.

दीदी के दोनो चूचियों पर इतना टाइट ब्लाउज पहनने के कारण लाल रंग का निशान सा पड़ गया था, दीदी ने धीरे से अपनी साड़ी और पेटीकोट भी खोल दिया और नगदहड़ंग नंगी हो फ़िर से मूतने बेठ गयी, मूतने के लिये उठते बैठते समय उसकी चूत का जो नज़ारा मुझे पीछे से हुआ वह वास्तव में मेरे जीवन का अजीबो गरीब नज़ारा था, जिसके बारे में बंद कमरे में आँखें बंद कर अपने लंड को रगडता था आज वही चीज़ मेरे सामने परोसी हुई सी मालूम पड़ रही थी, मैं भी शर्म संकोच छोड़ दीदी के बिल्कुल पास जा खड़ा हुआ. अब दीदी पूरी नंगी अवस्था में अपने पलंग पर आकर और हाथ हिला कर मुझे भी बुलाने लगी, मैं जैसे ही उनके पलंग के पास गया तो दीदी ने झट से मेरी लूंगी और वी शेप चड्डी खीच निकाली, और मुझे भी अपनी तरह मादरजात नंगा कर पलंग में खीच लिया, और कहने लगी की इस बेचारे पर कुछ तरस खा, इतनी गर्मीं में इसे इतने तंग कपड़ो में रखेगा तो इसका या हाल होगा तू नहीं जानता, इस बेचारे को थोड़ी हवा पानी दिखाने की ज़रुरत देनी चाहिये और हँसते हुये दीदी ने मुझे अपने ऊपर गिरा लिया.

अब हम दोनो के नंगे जिस्म एक दूसरे से रगड़ा रहे थे, दीदी के कामुक बदन ने तो मानो मुझे सम्मोहित ही कर लिया था, और मैं लगभग अंधे के समान वही करता जा रहा था, जो वो मुझसे चाहती थी, उसने मेरे दोनो हाथो को पकड़ कर अपनी चूचियों पर रख दिया, और कहने लगी की प्लीज़ भैया, जल्दी से इन कबूतरो को मुहँ में लेकर चूसो नहीं तो मैं मर जाऊँगी, और एक हाथ से अपनी चूत को रगड़ने लगी, कुछ देर उसकी चूचियों को चूसने के बाद मेने भी अपना एक हाथ उसकी चूत पर रख दिया, तो मुझे उसकी चूत की गर्मीं महसूस हुई, अपनी उंगलियो को दीदी की चूत में घुसाते हुये मुझे बड़ा मज़ा आ रहा था, और मैं लगभग पागलो की तरह रिन्की दीदी की चूत को रग़ड रहा था, जिस कारण उसमे से हल्का सा गर्म चिकना मदमस्त रस निकलता सा महसूस होने लगा, मैं इस रस को अपने मुहँ में पीना चाहता था, लेकिन दीदी को कहने से डर रहा था, तभी दीदी मानो मेरे मन की इच्छा भाप गयी और वह मेरे ऊपर चड़ गयी और मेरे लंड को मुहँ में लेकर आईसक्रीम की तरह चूसने लगी.

उसने अपनी रस भरी चूत को मेरे मुहँ के पास कर दिया, हम दोनो 69 की पोजिशन करके मैं भी रिन्की की चूत को मुहँ में लेकर चूसने लगा. वो लंड चूसने में मस्त थी. करीब 15 मिनिट तक लंड चूसने के बाद मैंने रिन्की दीदी से बोला की प्लीज़, थोड़ा रुक-रुक कर चूसो, नहीं तो तुम्हारा मुहँ कही खराब न हो जाये, तो वह ज़ोर-जोर से हँसते हुये बोली की तेरे जीजाजी तो रोज़ ही मेरा मुहँ खराब करते है. खेर कोई बात नहीं जब तेरा दिल चाहे मेरे मुहँ पर लंड से पिचकारी छोड़ देना, कुछ ही देर में दीदी की मस्त रसीली चूत सिकुड़ने लगी और वो मेरे सिर को चूत पर दबाने लगी और उनकी चूत का मजेदार नमकीन पानी मेरे मुहँ पर छोड़ दिया और अपनी आँखों को बंद कर मुहँ से अजीब सी सिसकारियां लेने लगी थी. मेरे लंड ने अभी तक जवाब नहीं दिया और जब उसका मन चूमा चाटी से भर गया तो कहने लगी की चल अब जल्दी से अपनी प्यारी दीदी को चोद दे, और ऐसा कह वो अपनी टांगों को फैलाते हुये अपनी चूत को चोड़ा कर बोली फाड़ दे भाई अपनी दीदी की चूत को तेरे इस मोटे और लम्बे लंड से.

इसके बाद में मैंने अपना लंड उनकी चूत पर रख कर चूत में ज़ोरदार घुसाया तो वह बिलबिला उठी और कहने लगी की ऐसा लंड तो मेने अपने जीवन में कभी नहीं खाया, यदि आज यहाँ मम्मी होती तो. ऐसा कह वह मस्ती में आखँ बंद कर चुप हो गयी और उस वक्त तो मैं यह सुनकर चुप हो गया योकि मैं भी इस पल के मज़े को भूलना नहीं चाहता था, लेकिन कुछ मिनटों के धको के बाद मेने उससे पूछ ही लिया की ऐसा लंड कभी नहीं खाया और मम्मी होती तो, इसका क्या मतलब है. क्या तुमने जीजाजी के अलावा और भी लंड खाये है, तो वो हँसते हुये बोली की अब तुझसे क्या छुपाना, मम्मी शुरु से ही पापा की गेर मोज़ूदगी में अपनी जवानी की गर्मीं घर में मुझे पढ़ाने आने वाले टीचर से और मेरे चचेरे मामा से मिटवाती थी, जब मैं यह राज जान गयी तो मम्मी ने मुझे भी खुली आज़ादी दे दी और कहा की केवल चुनिंदा लोगो से ही मज़ा लो जो की खुद की इज्जत बचाने के साथ-साथ हमे भी बदनाम ना करे, नहीं तो हम माँ बेटी किसी को मुहँ दिखाने के काबिल नहीं रहेगी, फ़िर मैंने कस कस कर धक्के मार कर उसकी चूत चोद रहा था.

वो भी जवाब में अपनी गांड उठा कर मेरा लंड झाड़ तक अपनी चूत में लेते हुये बोली हम माँ बेटी की किस्मत ही खराब थी जो की तुम जैसा गबरु जवान मदघर में होते हुये हम दोनो तरसती रही, इसके बाद जब तक दीदी रही मैं रात दिन रिन्की दीदी को चोदता रहा. उसके जाने बाद अब बिना चुदाई एक रात काटना मेरे लिये भी असंभव सा लग रहा था, योकि ऐसी मस्त चूत खाकर मेरा लंड भी अब और चूत की चुदाई के लिये तरसने लगा. मैं संकोच के मारे रिन्की की मम्मी यानी की आंटी जी को चोदने से घबरा रहा था. एक दिन रिन्की दीदी का फोन आया, और उसने मुझसे पूछा की तूने अब तक कितनी बार मम्मी को चोदा तो जब मेने कहा की मेने तो आंटी की तरफ देखा भी नहीं तो उसने माथा पीट लिया, और कहने लगी की अब क्या मैं वहाँ आकर तेरे लंड को पकड़कर मम्मी की चूत में डालूं ? मैं कुछ बोल नहीं पाया, तो उसने कहा की चल मम्मी से बात करा, मेने मम्मी को फोन दे दिया और मैं कमरे से बाहर चला गया.

मम्मी बहुत देर तक दीदी से बात करती रही. रात में गर्मीं कुछ ज्यादा ही थी, इस कारण मैं लूँगी और बनियान पहनकर टी.वी. देख रहा था, की आंटी भी हॉल में ही आ गयी और बोली की अंदर बेडरुम तो मानो भी सा तप रहा है, मैं भी यही कूलर की हवा में सो जाती हूँ ऐसा कह आंटी ने मेरे बेड के पास ही अपना बिस्तर लगा लिया और सोने लगी. शनिवार नाइट होने की वजह से मैं भी काफ़ी रात तक टी.वी. देख रहा था क्योकि अगले दिन रविवार के कारण किसी बात की जल्दी नहीं होती और मैं देर तक सोता रहता हूँ. तभी मेने गोर किया की आंटी जो की मेरे सामने ही ज़मीन पर बिस्तर पर सोये हुये थे, ने अचानक करवट ली और मादक अंदाज़ में अपना हाथ अपने ब्लाउज में डाल कर अपनी साड़ी के पल्ले को अपने सीने से हटा दिया, और वापस सोने का नाटक करने लगी, जब मेने आंटी की तरफ गोर से देखा तो मेने पाया की उन्होने अभी जो ब्लाउज पहना था,

उसका गला इतना छोटा था की उसमे से उनके आधे से ज्यादा स्तन बाहर आ रहे थे जब उनका प��ला सीने से हटा तो मैं आंटी के ब्लाउज के हुको को देख अचरज में पड़ गया उनके ब्लाउज के केवल तीन हुक लगे थे, इसका मतलब आंटी को यह आइडिया रिन्की दीदी ने ही दिया होगा, मेने जब गोर किया तो पाया की ब्लाउज में उन्होने ब्रा भी नहीं पहनी थी, की तभी आंटी ने फ़िर करवट बदली और इस बार अपने पेरो को ऐसे उठाया की उनकी साड़ी उनके घुटनो के ऊपर हो गयी और उनकी गोरी गोरी जाघ दिखाई पड़ने लगी.एक तो टीवी पर चलती सेक्सी मूवी और ऊपर से मेरे इतने पास आंटी को इस हाल में देख मेरा हाल बुरा हो रहा था, आंटी भी गर्मीं के कारण बेचैन लग रही थी, तभी आंटी बोली की बेटा कूलर भी मानो आग उगल रहा है,पूरे कपड़े पसीने में भीग रहे है. नींद ही नहीं लग पा रही है, तो मैं हिम्मत कर के बोला की आंटी एक काम करो, थोड़े कपड़े उतार लो, रात में कौन देखता है, आप चाहो तो मैं छत पर सो जाता हूँ.

तो आंटी बोली की हाँ बेटा यही ठीक रहेगा, और तू भी यही कूलर में सो जा, तुझसे कैसी शर्म, बस ज़रा लाइट बंद कर दे, तब मेने तुरंत लाइट बंद कर दी और टीवी देखने लगा, तो आंटी उठी और उसने अपनी साड़ी खोल कर एक तरफ रख दी और सामने के बाथरुम में पेशाब करने लगी, शायद उन्होने जानबुझ कर बाथरुम का दरवाजा बंद नहीं किया, मेने तिरछी निगाहों से देखा तो उनकी मोटी-मोटी गांड के दशन हो गये, जब वो वापस आई तो वो केवल पेटीकोट ब्लाउज में सोने लगी. और बोली महिप बेटा, ज़रा मेरे पैरो में तेल तो लगा दो तो मैं तेल की शीशी ले आया तो देखा उनका पेटीकोट तो पहले से ही घुटनो तक उठा हुआ था, मैंने उनके पैरो पर तेल लगा कर मालिश करना शुरु किया तो वो बोली की हाँ अब आराम लग रहा है लेकिन सारा बदन दर्द हो रहा है तो मैंने कहा की ऐसा करो आप उलटे लेट जाओं तो मैं आप की पीठ में भी मालिश कर देता. उन्होने ब्लाउज के सभी हुको को खोल दिया और उलटे लेट गये.

अब मैं उनकी कमर पर तेल लगा कर मालिश करने लगा और बीच बीच में मेरी हथेली उनकी चूचियों के साइड में भी लग रही थी, इस उम्र में भी आंटी के स्तन टाइट भरे हुये और कड़क थे की मुझे बड़ा आश्चर्य हुआ, मैं तेल लगाते लगाते उनकी कमर तक आ गया और फ़िर मेने उनके मुहँ से हल्की सी मादक आवाज़ सुनाई देने लगी और उन्होने अपनी आँखें बंद कर रखी थी अब उन्होने कहा दीनू बेटा ज़रा पैरो की पिंडली में और तेल लगा दो यह कह कर वो पीठ के बल लेट गयी मैंने देखा जब वो सीधी सोई थी तो उनके ब्लाउज के सारे हुक खुले थे और उनकी चुचियाँ उनकी साँसों के साथ ऊपर नीचे हो रही थी यह देख कर मैंरा लंड तो खड़ा होकर लूँगी से बाहर आने को बेताब हो गया फ़िर मेने भी मोका पाकर पैरो की मालिश करते करते पेटीकोट में हाथ डालना शुरु कर दिया, और अपनी उंगलिया उनकी जाघो पर फ़िराते हुये उनकी टांगों को फैला दिया जिससे उनका पेटिकोट थोड़ा ऊपर सरक गया और मुझे उनकी चूत के दशन होने लगे.

मैंने देखा की चूत पर खूब घने काले-काले बाल दिख रहे थे फ़िर मैंने हिम्मत करके उनकी चूत तो टच किया तो उन्होने अपने पूरे बदन को कड़क कर हल्की सी उचक गयी लेकिन अपनी आँखें नहीं खोली. फ़िर मैंने धीरे धीरे उनकी चूत की दरारो को उंगली से सहलाना शुरु किया फ़िर मेने मोके की नज़ाकत को भाँप कर अपना एक हाथ उनके स्तनो पर रख उनको ज़ोर-जोर से मुठी में भिचाने लगा, उनकी दोनो चुचियाँ कड़क होकर फूल गयी थी, और मैं उनकी अंडर आर्मस जिसमे घने बाल थे को चूमने लगा. उनकी अंडर आर्मस से आ रही मादक खुशबु ने मेरा लंड राड जैसा खड़ा कर दिया, अब उन्होने मुझे अपने करीब सुलाते हुये मेरी लूँगी खीच कर मेरे लंड को बाहर निकाल लिया और उसे मुहँ में लेकर ज़ोर-जोर से चूसने लगी, मैंने भी उनको अपने सीने पर खीच कर उसकी चूत को खूब चूसा, अब तो सारी मज्यादाये छोड़ के निसंकोच आंटी की चूत चटाई करने लगा उनकी चूत इतनी टाइट लग रही थी मानो बरसो से प्यासी हो.

जब वो गरम हो गयी तो वो बोली महिप बेटा, अब मुझसे रहा नहीं जाता. डाल दो तुम्हारा लोड़ा मेरी प्यासी चूत में और मैंने उनके पैरों को फैलाते हुये अपना लंड चूत में डाल कर चोदना शुरु किया और करीब 20-25 मिनिट तक उन्हें चोदता रहा इस दरमियाँ वो 2 बार झड़ चुकी थी आंटी चुदवाते समय बड़ी अजीब सी गंदी-गंदी बातें और गालियाँ बोले जा रही थी, जिसे मैं भी अनसुना कर चुदाई का मजा ले रहा था, वो बेटी से भी ज्यादा चुदकड़ महिला थी करीब रात 4 बजे तक मैंने उनको 3 बार कई स्टाइल में चोदा और 2 बार गांड भी मारी. सुबह जब उठा तो वो मेरे बगल में बिल्कुल नंगी सोई थी और उनकी चूत मेरे मोटे और लंबे लंड के कारण फूल कर सूज गयी थी.

Desisexstory : My wife having sex with Stranger

Desisexstory : My wife having sex with Stranger
desisexstory

I am in my mid thirties and my wife in her early thirties. We got married 10 years back. My wife is from a village background and I am from an urban background. I am a branch manager of a well-known company having its branches all over India.
Until five years ago, everything was normal and we were leading a healthy sex life calmly. Over a period of time I had realized that though my wife was very happy with me and was satisfied of me, would love to enjoy a big cock than mine or perhaps I wanted to see her enjoying sex with stranger(s). In addition, I had started to think of making my dream a true. In addition, my wife was clueless. I was looking for chances.
Moreover, days and weeks passed way. I could not consolidate enough courage to tell my wife what I wanted, bacon I was sure that being from a village background my wife could not digest this very Idea and instead she may act very rudely. I kept quite waiting for a suitable opportunity. Then I had to go to Delhi to attend a meeting of all the branch managers of the company. There in Delhi we, all the managers were staying in a hotel for 6 day. There I developed friendship with three guys, Rajesh from UP, Gopal from Delhi and Sandeep Singh from Punjab. During our leisure hours, we discussed everything under the sun. Sex and swapping of wives were also part of our discussion. I used to divert our conversation intentionally into sex related subjects. During in us four friends used to watch porn films in my room as I had carried some porn CDs with me. After the meeting was over, we returned to our states. Before leaving, I did not forget to invite my friends to my hometown.
After few months I got a call from my friend Rajesh that the, Rajesh, Gopal and Sandeep are coming to my hometown on 30 December and will be with me for a weeklong time. I told my wife about my friends` program and we arranged their stay in our outhouse. AS told, they reached my hometown on 30 December around 3 PM. I received them at the station and took them to my home. Till late night we discussed many things and while leaving I told them that I have kept porn CDs for them in the almirah.
Next day we, friends, went out for sightseeing while my wife stayed back saying she will arrange a feast for my friends in the evening. While walking with my friends, the whole day, I was thinking of executing my plans of getting my wife fucked by my friends. I rang up my wife and told her that we would be back at home by 7.30 PM and she should keep ready the dinner by then. I then suggested my friends of watching a new movie that was being screened in the town. I took them to the cinema and the show started at 7 PM. I told my friends that I wanted to go home urgently and I shall pick them up when the film is over. Saying this I went back to home and told my wife that my friends may not come today as they found an another friend in the town. My wife got disappointed because she had prepared lot many items for my friends and they were not coming for the dinner.
By 8 PM I was freshened up and picked up two glasses and a bottle of scotch and told my wife don`t worry if my friends are not coming, let us enjoy. Saying this I filled the glasses and handed one to my wife. After my prolonged pursuance since my marriage, my wife had started to take a little bit of liquor occasionally just to give me company. Today since morning as she was in the kitchen, she was tired and was ready to enjoy the drink. By 9.30 PM, we finished three pegs each. Only I knew how much she had taken. Because I kept filling her glass without her being noticed. After three large pegs, she was totally collapsed and I made her lie on the bed in our bedroom. I then unbuttoned two of her nightie`s buttons to give a clear view of her big and beautiful breasts. I also lifted part of her nightie just above to one of her thigh, so that her pussy is partially seen. Leaving my wife like that, I went to bring my friends back home from the cinema.
At home, I told my friends to get a quick bath and come for dinner. In next 15 to 20 minutes, they were ready and came to me in our sitting room. I served them with scotch and different types of snacks. By 11 PM, everyone was drunk and Gopal said that he wanted to have sex with somebody. Rajesh and sandeep also were supporting him. They wanted me to arrange somebody for them. I took this opportunity to execute my long-standing wish. I told my friends that it is too late to go out in the town to look around for a call girl. Then though jokingly but from the heart I told them if they want they can enjoy that night with my wife. Though they were drunk, they refused my offer and told that after all she is your wife so they should not do that. I told them that if they want they could go for that otherwise I will not compel them. I then invited them to watch a porn movie. Since I had kept the TV in my bedroom, I took them to my bedroom knowingly that my wife is sleeping there partially exposing her breasts and pussy. I had not kept any chair in the bedroom so they had to sit on our bed only. I went to the TV and began to put a CD into the DVD player. By the time my friends had settled down on our bed and they had noticed my wife`s pussy and breasts. After switching on the TV, I also joined them. That was a western porn movie in which three guys were fucking a lady. When I felt that they are enjoying the movie, I went to my wife and started to unbutton her nightie buttons and I exposed her breasts. Then I told my friends that I am serious that if they want they can join me to enjoy my wife. I also told them that my wife is badly drunk and will not wake up at least for another two to three hours. In the inebriated state Sandeep got up and came closer to me and hesitatingly touched my wife`s breasts. I encouraged him to go ahead and do whatever he wants to do to my wife. Seeing my positive attitude, my other friends too joined us. I told my friends that now they can enjoy my way they want to and I would be filming them in my handicam.
While my friends were removing my wife`s cloths one by one, I was capturing them in my cam and was also directing them how to go about. After undressing my wife, all three of them also removed their dress. Sandeep had a 7-inch long cock. Rajesh`s cock though was not that long, it was fat. Gopal had a six and half-inch long cock. One by one they started to play with my wife`s boobs and pussy.
While Gopal was kneading one of my wife`s breast, Rajesh was sucking the other one and Sandeep went down to her pussy and started to lick it. My wife Rani was still sleeping. They were also admiring Rani`s body. They kept on changing their positions. They were so exited and I could make out from their behavior that they were getting mad. They were biting her nipples and lips. I told them that they should be careful and should not hurt her.
After about half hour foreplay Sandeep got up, went behind my wife, and started to finger her asshole. He used his saliva and the honey of her pussy as lubricants. Initially he used one finger and then two and finally three. After fingering her for few minutes, he took out his huge penis and smeared it with his saliva. Then slowly and carefully without hurting my wife he guided his hard shaft into her asshole. When it touched the entrance of her ass, she slightly moved. Then very slowly and slowly but with light pushes and pulls, he slid his shaft fully into her anal canal. By the time, Gopal had pushed his big cock deep into her throats And Rajesh was tit fucking her. All three of them started to pump their places with their huge cocks vigorously. With their each strike Rani`s body was shaking as if she is trembling. After about five minutes, Sandeep unloaded his hot juice in her asshole. She was still holding his cock tightly in her asshole not letting him to slip out. Gopal also unloaded into her throat and he ensured that it does not come out, but she swallowed it. Rajesh ejaculated in between her tits and he smeared both her tits with his cum. All of them lied there for two to three minutes and then changed their positions. When all three of them were fucking my wife simultaneously, I felt that my wife woke up partially and it took her few seconds to realize what was happening to her. She was enjoying the session. (Later she told me that initially when she woke up she took it as I was fucking her and after few minutes, only she could make out that it was not me but three people were fucking her)
Then all three of them fucked all her holes one by one and filled her holes. She was literally drench in their cum. From 11PM in the night until 3 AM in the morning, they fucked her. All the while, I was recording the fuck session into my handicam.
After fucking my wife until 3 AM, they were exhausted and slept next to her only. Leaving my wife with my friends, I went to the next room and slept there. In the morning, we woke up very late. In the morning, I went to the kitchen to see my wife preparing bed tea for all of us. I was apprehensive about what would be her reaction. However, hesitantly I went to her as if nothing had happened. Seeing me, she stared at me and asked why I did it to her. I apologized to her that it all happened as we all were drunk and hence she should not take it seriously. Then I embraced her and gave her a deep French kiss. She then told me that “, but you need not have to apologize because I know you were enjoying seeing me getting fucked by your friends and it all happened with your consent only and let me tell you that I also enjoyed the encounter”. She then embraced me, kissed me all over my body, and said thanks for organizing such a wonderful night.
For another five days, my friends were with us and we enjoyed those five days together on the same bed with my wife as if my wife is the wife of all four of us. My friends also canceled their sightseeing program and enjoyed the group fucking session.
When my friend left back my wife and myself invited them to come back whenever they get chance and enjoy sex. Ever since then my friends visited my home a number of times alone and in group during my presence and in my absence and enjoyed my wife`s pussy as if it is their right to do so.
My some other friends also enjoyed my wife later. In last five years, almost 25 people fucked my wife and shared our bed. We enjoy sharing pleasure to others.